बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

सौरभ को बना दिया सुरभि

Badaun Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
हाईस्कूल-इंटर की मार्कशीट में तमाम विद्यार्थियों के नाम बदले, माता-पिता के नाम भी कर दिए परिवर्तित
विज्ञापन

विद्यार्थी, कॉलेज और डीआईओएस कार्यालय के काट रहे चक्कर, कोई सुनने को तैयार नहीं
अगली कक्षाओं में प्रवेश के लिए विद्यार्थियों के छूट रहे पसीने
बदायूं। माध्यमिक शिक्षा परिषद हर साल मार्कशीट में होने वाली त्रुटियों के सुधार को बड़े-बड़े दावे करता है, लेकिन वह फेल हो जाते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ। तमाम विद्यार्थियों की मार्कशीट में माता-पिता का नाम बदल दिया गया तो किसी छात्र सौरभ को सुरभि बना दिया गया। विद्यार्थी सुधार के लिए कॉलेज और डीआईओएस कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उन्हें राहत नहीं मिल रही है। इसके कारण वे अगली कक्षाओं में प्रवेश भी नहीं ले पा रहे हैं। कॉलेज प्रशासन उन्हें मार्कशीट में नाम गलत बताकर लौटा देते हैं। इससे उनकी परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है।
पार्वती आर्य कन्या संस्कृत इंटर कॉलेज की छात्रा साना ने हाईस्कूल की परीक्षा दी थी। परीक्षा संपन्न हो गई। मार्कशीट आ गई, लेकिन उसमें माता और पिता का नाम गलत दर्शा दिया गया। माता का नाम यास्मीन बी है जबकि मार्कशीट में यासीन बी दर्शाया गया है। पिता के नाम को जाकिर हुसैन की जगह जाहिर हुसैन कर दिया गया है। इसके अलावा शहर के एक कॉलेज के छात्र सौरभ को सुरभि बना दिया गया। उसने भी हाईस्कूल की परीक्षा दी थी।

इनके अलावा तमाम विद्यार्थी ऐसे हैं जिनकी मार्कशीट में नाम, पिता और माता का नाम बदला हुआ है। इन विद्यार्थियाें को अब मार्कशीट मिली तो वे परेशान हैं। सही कराने के लिए कॉलेज प्रशासन के पास तो कभी डीआईओएस कार्यालय दौड़ लगा रहे हैं, लेकिन इन्हें कोई संतोषजनक उत्तर देने को तैयार नहीं है। विदित हो कि पिछले साल भी तमाम विद्यार्थियों के सामने यही समस्या खड़ी हुई थी। इसके लिए परिषद ने इस बार डाटा अपडेट मांगे थे, ताकि यह गलती नहीं दोहराई जा सके। क्रॉस चेकिंग के लिए कॉलेज प्रशासन के पास भी परीक्षा से पूर्व लिस्ट भेजी गई थी, लेकिन किस स्तर से गड़बड़ी हुई है, यह अधिकारी और कॉलेज प्रशासन एक-दूसरे पर टाल रहे हैं। इससे विद्यार्थियों की समस्या बढ़ती जा ही है।
डीआईओएस सुशीला अग्रवाल का कहना है कि जिन विद्यार्थियों की मार्कशीट में त्रुटियां हैं वे अपने कॉलेज से फार्म भरवाकर विभाग के पास जमा कर दें। त्रुटि सुधार के लिए कोई शुल्क देय नहीं है। यहां से भेजने के बाद मार्कशीट सही होकर आ जाएंगी। विद्यार्थी परेशान न हों।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us