विज्ञापन

आयुष चिकित्सकों ने काली पट्टी बांध निकाला जुलूस

Badaun Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। इंडियन मेडिकल एक्ट-1939 में संशोधन की मांग को लेकर लखनऊ में प्रदर्शनकारी आयुष डाक्टरों पर पुलिस द्वारा सोमवार को किए गए लाठीचार्ज का जिलेभर के डाक्टरों ने मंगलवार को विरोध किया। क्लीनिक बंद करके डाक्टरों ने जुलूस निकालकर हाथों में काली पट्टी बांधी। प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। दूसरे दिन भी हड़ताल रहने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
विज्ञापन
दूसरे दिन भी शहर के आयुष चिकित्सकों के क्लीनिक बंद रहे। इससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। चिकित्सकों ने काली पट्टी बांधकर विरोध किया। बैठक के दौरान आयुष चिकित्सकों ने कहा कि जिले में अधिकांश मरीज आयुर्वेदिक और यूनानी चिकित्सकों के हवाले हैं। गरीब जनता का इलाज करते हैं। इसलिए चिकित्सकों की मांगे सरकार को माननी होंगी। चिकित्सक अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने लाठीचार्ज कर तानाशाही रवैया अपनाया, जो निंदनीय है।
उझानी। आयुष डाक्टरों पर पुलिस लाठीचार्ज की डाक्टरों ने निंदा की। क्लीनिक बंद करके डाक्टरों ने जुलूस निकालकर हाथों में काली पट्टी बांधी। साथ ही प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शनकारी डाक्टरों में डा. आलोक कुमार गुप्ता, हरीओम गुप्ता, मुहम्मद फरमान, शफातुल्लाह, असलम, आशीष शर्मा, एके गोयल, पीके गोयल, एसके गुप्ता, प्रदीप गुप्ता, रिजवान अहमद, आरए खां, यासीन सिद्दीकी, वसीमउद्दीन और बीएन शर्मा आदि शामिल थे।
सहसवान। नगर समेत देहात क्षेत्र के आयुष चिकित्सकों ने भी लाठीचार्ज की निंदा करते हुए काली पट्टी बांधकर विरोध किया। मौन जुलूस निकालकर एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। क्लीनिक भी बंद रहे। ज्ञापन में कहा है कि पुलिस द्वारा लाठीचार्ज नहीं किया जाना था। सभी लोग अपनी मांगों के लिए स्वतंत्र हैं। ज्ञापन देने वालों में डॉ. मुजीवुर्रहमान, डॉ. कैलाश गुप्ता, डॉ. हशमत अली, डॉ. आनंद कृष्ण सक्सेना, डॉ. नासिर, डॉ. अरशद, डॉ. प्रवीन माहेश्वरी, डॉ. रविकांत, डॉ. प्रभात मोहन आदि रहे।
वजीरगंज। कस्बा सैदपुर के चिकित्सक भी क्लीनिक बंद कर लाठीचार्ज का विरोध किया। उन्हाेंने कहा कि जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती तब तक क्लीनिक बंद रहेंगे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

इन महिलाओं के साथ अफेयर को लेकर चर्चा में रहे नेहरू

पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने अपने जीवन में कुछ खास महिलाओं को अपने बेहद करीब रखा, जिसका जिक्र आम रहा। ये महिलाएं आम नहीं थी बल्कि बेहद खास थी नेहरू के जीवन में भी और उनसे जुड़ी तमाम बातों में भी।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree