विज्ञापन

बमनपुरा में छाया मातम, रामगंगा घाट पर हुई अंत्येष्टि

Badaun Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
दातागंज (बदायूं)। उत्तराखंड में ही पोस्टमार्टम के बाद रविवार की रात गांव बमनपुरा के दो सगे भाइयों समेत चार युवकों के शव गांव लाए गए, सोमवार की सुबह रामगंगा घाट पर सभी की अंत्येष्टि कर दी गई है। हादसे में चार अन्य युवक भी घायल हुए हैं। एक ही गांव के चार युवकों की मौत से वहां मातम का माहौल बना हुआ है।
विज्ञापन
थाना हजरतपुर क्षेत्र के गांव बमनपुरा निवासी ध्रुव सिंह का 25 वर्षीय पुत्र रामबहादुर और 22 वर्षीय नन्हूं के अलावा गांव के ही मुकुंदराम का 18 वर्षीय पुत्र टोई उर्फ टुइयां और ठाकुरदास का 35 वर्षीय पुत्र ब्रह्मानंद समेत गांव के आठ युवक 12 दिन पूर्व उत्तराखंड के बाजपुर में मजदूरी करने गए थे। यहां सभी युवक काशीपुर के इटौआ दाबका में रेत के खनन में लग गए थे। 30 जून की शाम सभी युवक रेत से भरे ट्रक के ऊपर बैठकर वापस लौट रहे थे। देर रात लगभग 11 बजे बाजपुर के पास ट्रक पलट गया, इससे ट्रक में सवार आठों युवक रेत में दब गए।
लगभग आधा घंटे बाद पहुंचे मजदूरों ने काफी मशक्कत के बाद सभी को बाहर निकाला लेकिन तब तक रामबहादुर, उसका भाई नन्हूं, टुइयां और ब्राह्मानंद की मौत हो चुकी थी। जबकि गांव के ही अमर सिंह, नन्हें, रामखिलावन और सुधीर घायल हो गए। इस घटना की सूचना मिलने के बाद परिवार केलोगों समेत गांव के दो दर्जन लोग घटनास्थल पर रात में ही पहुंच गए। दूसरे दिन रविवार को सभी शवों को पोस्टमार्टम के बाद देर रात परिवार के लोग गांव ले आए। साथ ही घायलों को भी घर लाया गया। सगे भाइयों समेत एक ही गांव केचार युवकों की मौत के बाद आसपास इलाके केहजारों लोग वमनपुरा पहुंच गए। सोमवार को रामगंगा के घाट पर शवों की अंत्येष्टि कर दी गई है।

पहले भी गई थीं तीन जानें
दो साल पूर्व गांव कुनिया के रामदास, जगदीश और हरिओम भी उत्तराखंड के किच्छा में खनन की मजदूरी करने गए थे। ठीक इसी तरह घर वापस लौटते समय ट्रक पलटने से तीनों की मौत हो गई थी।

तीन हजार की खातिर जोखिम में डालते हैं जान
हादसे में घायल अमर सिंह ने बताया कि 15 दिन में खनन की मजदूरी करके पांच हजार रुपये मिलते हैं लेकिन मजदूरी लगातार 12 घंटे करना पड़ती है। दो हजार रुपये वहां रहने- खाने और किराए में खर्च हो जाते है। ऐसे में घर लौटने पर महज तीन हजार रुपये ही बच पाते हैं। हाड़तोड़ मेहनत की वजह से 15 दिन से ज्यादा मजदूरी नहीं हो पाती।

हादसे में मरने वाले रामबहादुर की बीती 24 जून को शादी थी। बारात शाहजहांपुर के गांव कुड़रिया जानी थी। किन्हीं कारणों के चलते कन्यापक्ष के लोगों ने सर्दियों में शादी करने की बात कही थी। चूंकि घर में उसकी शादी की तैयारियां पूरी हो चुकी थीं। विवाह संबंधी सभी सामान की खरीददारी भी की जा चुकी थी। सारा सामान संभालकर रख दिया गया था लेकिन शनिवार को रामबहादुर की मौत केसाथ ही मां-बाप के अरमान भी दम तोड़ गए। वहीं नन्हूं की मौत का गम भी उन्हें ताउम्र सालता रहेगा।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

इटली घूमने का लुत्फ अब विदेश में नहीं बल्कि अपने देश में उठाएं

आजकल इटली वेडिंग डेस्टिनेशन के लिए काफी मशहूर हो रहा है। अनुष्का शर्मा की शादी के बाद दीपिका और रणवीर भी इटली में जाकर शादी के बंधन में बंधे। अगर आप भी इटली जाकर शादी करने का ख्वाब देख रहे हैं तो यह आसानी से पूरा हो सकता है।

18 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree