विज्ञापन

आयुष चिकित्सक सड़कों पर उतरे, मरीज हलकान

Badaun Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
बदायूं। एलोपैथी प्रैक्टिस बंद करने के विरोध में जिले भर के आयुर्वेदिक यूनानी मेडिकल एसोसिएशन (आयुष) के चिकित्सक प्रांतीय आह्वान पर सड़कों पर उतर आए। वह सोमवार को एक दिनी हड़ताल पर रहे। नर्सिंग होम और क्लीनिकों पर दिनभर ताले लटके रहे। इस दौरान मरीज इलाज के लिए दर-दर भटकते रहे। बैठक के बाद सभी चिकित्सकों ने संयुक्त रुप से मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम को सौंपा। कहा कि जब उन्होंने एलोपैथी पद्धति का प्रशिक्षण लिया है तो वह प्रैक्टिस क्यों नहीं कर सकते। तमाम बीएएमएस और बीयूएमएस चिकित्सक सरकारी अस्पतालों में भी तैनात हैं। पहले उनको हटाया जाना चाहिए। उसके बाद सरकार को कोई निर्णय लेना चाहिए। उझानी में प्रदेश सरकार के खिलाफ चिकित्सकों ने बाइक रैली निकालकर प्रदर्शन किया।
विज्ञापन
विज्ञापन
जिला मुख्यालय स्थित डॉ. एसके गुप्ता के आवास पर डॉ. मुहम्मद हसीन की अध्यक्षता में चिकित्सकों की बैठक हुई। सभी चिकित्सकों ने कहा कि जब प्रशिक्षण एलोपैथी और यूनानी दोनों पद्धतियों से लिया है तो प्रैक्टिस पर पाबंदी क्यों लगाई जा रही है। जबकि डब्लूएचओ निर्णय ले रहा है कि दो माह का प्रशिक्षण हेल्थ वर्कर्स को दिया जाएगा, जो इंटीरियर में जाकर 90 दवाओं को प्रयोग में ला सकेंगे। दो माह का प्रशिक्षण लेने वाले वर्करों को इस कार्य के लिए उपयोगी माना है जबकि साढ़े पांच साल का प्रशिक्षण लेने वाले आयुष चिकित्सकों पर पाबंदी लगाई जा रही है। यह गलत है। उन्होंने कहा कि 40 साल से यह प्रकरण चला आ रहा है, लेकिन सरकार इस पर उचित निर्णय नहीं ले पा रही है। सभी चिकित्सकों ने एक स्वर में कहा कि उन्हें पहले की तरह उन्हें प्रैक्टिस करने दी जाए।
सभा में डॉ. त्रिलोचन सिंह, डॉ. एसके गुप्ता, डॉ. हसीन, डॉ. संजय मेहतानी, डॉ. कमर इकबाल, डॉ. सौरभ राठौर, डॉ. सचिन गुप्ता, डॉ. सीपी सक्सेना, डॉ. खुर्रम, डॉ. एके सक्सेना, डॉ. सरताज हुसैन, डॉ. अनुराग शर्मा आदि रहे।
दातागंज। यहां भी आयुष चिकित्सक हड़ताल पर रहे। अपने-अपने क्लीनिक बंद रखे। उनके समर्थन में नगर दातागंज के सभी मेडिकल स्टोर भी बंद रहे। अध्यक्षता करते हुए डॉ. अब्दुल हफीज ने कहा कि सरकार को इसको लेकर निर्णय लेना होगा ताकि उनके साथ खिलवाड़ न हो सके। संरक्षक डॉ. लोकेश शर्मा, डॉ. इरफान हुसैन, डॉ. जीलानी, डॉ. प्रवेश कुमार, डॉ. राकेश सक्सेना, डॉ. मुस्तकीम, डॉ. अब्दुल कादिर, डॉ. मनू सिंह आदि रहे।
सहसवान। चिकित्सकों की हड़ताल के चलते मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सभी क्लीनिक बंद थे। एसोसिएशन के महासचिव डॉ. कैलाश चंद्र गुप्ता ने बताया कि यह आंदोलन पूरे प्रदेश का है। सरकार को उनके पक्ष में निर्णय लेना होगा। बैठक में डॉ. मुजीवुर्रहमान, डॉ. राकेश माहेश्वरी, डॉ. गुफरान आदि रहे।
इस्लामनगर। नगर के भी आयुष चिकित्सक क्लीनिक बंद कर हड़ताल पर रहे। मेडिकल स्टोर वालों ने भी उनका समर्थन किया। मेडिकल एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि नगर में कोई एमबीबीएस चिकित्सक नहीं है। स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक बाहर की दवा नहीं लिखते।
अलापुर। एसोसिएशन के पदाधिकारी क्लीनिक बंद कर हड़ताल पर रहे। इससे मरीज इलाज को भटकते रहे। डॉ. राजाराम, डॉ. होतम सिंह, डॉ. जाकिर, डॉ. पंकज शर्मा, डॉ. अनिल शर्मा, डॉ. एके सिंह आदि मौजूद रहे।
ककराला में भी चिकित्सकों ने हड़ताल की। क्लीनिक बंद रखे। चिकित्सकों ने ऐलान किया उनका उत्पीड़न हुआ तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। इस मौके पर डॉ. शादाब अली खान, डॉ. असलम, डॉ. खालिद जफर, डॉ. जहीर खान, डॉ. अवजर खान आदि रहे।
उझानी। आयुष डाक्टरों ने सोमवार को प्रदेश सरकार के खिलाफ क्लीनिक बंद करके बाइक रैली निकाल कर प्रदर्शन किया।
डा. आलोक कुमार गुप्ता के नेतृत्व में एसोसिएशन से जुड़े पदाधिकारी पूर्वाह्न इकट्ठे हुए। साथ ही बैठक करके क्लीनिक बंद रखने का फैसला किया। प्रदर्शनकारियों में डा.हरीओम गुप्ता, शफातुल्लाह, पीके गोयल, एके गोयल, एसके गुप्ता, असलम, पारस मिश्रा, फरमान, बीएन शर्मा, नरेंद्र शर्मा और यासमीन जफर आदि शामिल थीं।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एक महिला का प्रोफेशन है लिपट कर सोना, पर ये हैं बंदिशें

एक महिला इन दिनों इंटरनेट पर चर्चा का विषय बनी हुई है जो सिर्फ लोगों को गले लगाती है और बड़े प्यार से सुलाती है। ऐसा कर वह हर घंटे 80 डॉलर (करीब 5,635 रुपये) कमाती है।

17 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree