धीमा चल रहा ड्रेन का निर्माण

Badaun Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
बदायूं। बाढ़ खंड दस-दस की लागत से दो ड्रेन का निर्माण करा रहा है। इन दोनों ही कार्यों का निर्माण कार्य धीमी गति से हो रहा है, जबकि बरसात दस्तक देने को है। डीएम मयूर माहेश्वरी ने इन दोनों कार्यों को देखा और बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता को फटकार सुनाई तथा काम में तेजी लाने के लिए जेसीबी मशीन व मजदूरों की संख्या बढ़ाकर काम 30 जून तक काम हर हाल में पूरा करने का सख्त निर्देश दिया।
बाढ़ खंड दस लाख की लागत से नौ किलोमीटर लंबे गदनपुर से रुनैया तक के नाले और इतनी ही लागत से सहसवान क्षेत्र के खंदक, मेमड़ी व पतरचोहाके जंगल तक 7.8 किलोमीटर लंबी ड्रेन का निर्माण कराया जा रहा है। इधर,बरसात भले ही सामने खड़ी हो लेकिन बाढ़ खंड इन दोनों कार्यों को लेकर गंभीर नहीं दिख रहा। यही वजह है कि इन दोनों निर्माण कार्यों की काफी धीमी चाल है। जबकि इन दोनों ही जगहों पर पानी की निकासी की कोई व्यवस्था न होने से बरसात का पानी यहां दर्जनों किसानों के खेत में भर जाता है, जिससे बाढ़ के पानी से फसलों को जबरदस्त नुकसान होता है। पिछले साल भी बरसात का पानी भर जाने से यहां फसलों को काफी नुकसान हुआ था। इस बार यह हालात दोबारा न हो, इसके लिए पानी की निकासी के लिए ड्रेन का निर्माण कराया जा रहा है। जबकि बाढ़ खंड इन ड्रेन को जल्द बनाने की कवायद नहीं कर रहा। अभी इनका काफी काम बाकी है। इधर, ड्रेन के निर्माण का मौके पर निरीक्षण करने पहुंचे डीएम ने बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता डीके जैन को फटकार लगाई और यह सख्त निर्देश दिए कि चाहे जेसीबी मशीन बढ़ाई जाए या मजदूर की संख्या बढ़ाई जाए। ड्रेन निर्माण का काम हर हाल में 30 जून को पूरा हो जाना चाहिए। इधर, एसडीओ बाढ़ खंड गंगा सिंह ने बताया कि काम में तेजी लाने के लिए मंगलवार से मजदूरों की संख्या में इजाफा किया जाएगा।

नहीं तो रोक दिया जाएगा ठेकेदारों का पेमेंट
सीडीओ सूर्यपाल गंगवार ने यह साफ तौर से कहा कि बाढ़ खंड 30 जून तक सारे कार्यों का सत्यापन कर रिपोर्ट तैयार कर लें, नहीं तो जो काम अधूरे रह जाएंगे, उनका भुगतान ठेकेदारों का रोक दिया जाएगा।

Spotlight

Related Videos

देखिए सरकार ने क्यों लगाया फेसबुक-गुगल पर जुर्माना

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में फेसबुक, गुगल और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर 1 लाख का जुर्माना लगाया है। इस रिपोर्ट में देखिए आखिर क्यों लगा है जुर्माना।

22 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen