धीमा चल रहा ड्रेन का निर्माण

Badaun Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
बदायूं। बाढ़ खंड दस-दस की लागत से दो ड्रेन का निर्माण करा रहा है। इन दोनों ही कार्यों का निर्माण कार्य धीमी गति से हो रहा है, जबकि बरसात दस्तक देने को है। डीएम मयूर माहेश्वरी ने इन दोनों कार्यों को देखा और बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता को फटकार सुनाई तथा काम में तेजी लाने के लिए जेसीबी मशीन व मजदूरों की संख्या बढ़ाकर काम 30 जून तक काम हर हाल में पूरा करने का सख्त निर्देश दिया।
बाढ़ खंड दस लाख की लागत से नौ किलोमीटर लंबे गदनपुर से रुनैया तक के नाले और इतनी ही लागत से सहसवान क्षेत्र के खंदक, मेमड़ी व पतरचोहाके जंगल तक 7.8 किलोमीटर लंबी ड्रेन का निर्माण कराया जा रहा है। इधर,बरसात भले ही सामने खड़ी हो लेकिन बाढ़ खंड इन दोनों कार्यों को लेकर गंभीर नहीं दिख रहा। यही वजह है कि इन दोनों निर्माण कार्यों की काफी धीमी चाल है। जबकि इन दोनों ही जगहों पर पानी की निकासी की कोई व्यवस्था न होने से बरसात का पानी यहां दर्जनों किसानों के खेत में भर जाता है, जिससे बाढ़ के पानी से फसलों को जबरदस्त नुकसान होता है। पिछले साल भी बरसात का पानी भर जाने से यहां फसलों को काफी नुकसान हुआ था। इस बार यह हालात दोबारा न हो, इसके लिए पानी की निकासी के लिए ड्रेन का निर्माण कराया जा रहा है। जबकि बाढ़ खंड इन ड्रेन को जल्द बनाने की कवायद नहीं कर रहा। अभी इनका काफी काम बाकी है। इधर, ड्रेन के निर्माण का मौके पर निरीक्षण करने पहुंचे डीएम ने बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता डीके जैन को फटकार लगाई और यह सख्त निर्देश दिए कि चाहे जेसीबी मशीन बढ़ाई जाए या मजदूर की संख्या बढ़ाई जाए। ड्रेन निर्माण का काम हर हाल में 30 जून को पूरा हो जाना चाहिए। इधर, एसडीओ बाढ़ खंड गंगा सिंह ने बताया कि काम में तेजी लाने के लिए मंगलवार से मजदूरों की संख्या में इजाफा किया जाएगा।

नहीं तो रोक दिया जाएगा ठेकेदारों का पेमेंट
सीडीओ सूर्यपाल गंगवार ने यह साफ तौर से कहा कि बाढ़ खंड 30 जून तक सारे कार्यों का सत्यापन कर रिपोर्ट तैयार कर लें, नहीं तो जो काम अधूरे रह जाएंगे, उनका भुगतान ठेकेदारों का रोक दिया जाएगा।

Recommended

Spotlight

Related Videos

VIDEO: उत्तराखंड में रोज जान की बाजी लगाकर पढ़ने जाते हैं बच्चे

एक तरफ जहां प्रदेश की बीजेपी सरकार विकास को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुँचाने का दावा कर रही है वहीं यहां के कुछ ग्रामीण इलाकों में बच्चे जान जोखिम में डालकर यात्रा कर रहे है. देखिए किस तरह बच्चे पढ़ने जाने को मजबूर है.

21 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree