शासन तक पहुंचा किताबें बेचने का मामला

Badaun Updated Sun, 24 Jun 2012 12:00 PM IST
बदायूं। सर्व शिक्षा अभियान की किताबें कबाड़ी को बेचे जाने का मामला शासन तक पहुंच गया है। एडी बेसिक ने बीएसए से इसका विवरण मांगा है। बताया जा रहा है विभाग ने अभी तक कितनी किताबें बेची गई थी उसका ही पता नहीं लगाया। यह आज भी थाने में रखी हुई हैं।
विदित हो कि बाल श्रम स्कूलों के लिए सर्व शिक्षा अभियान की किताबें बेसिक शिक्षा विभाग ने भेजी थीं, लेकिन यह किताबें बच्चों तक नहीं पहुंची। एक साल तक श्रम विभाग के परियोजना कार्यालय में यह किताबें बंद रहीं। उसके बाद इन किताबों को बेचने कबाड़ी की दुकान ले जाया जा रहा था। सूचना पर सिटी मजिस्ट्रेट और जिला विद्यालय निरीक्षक ने किताबें पकड़कर पुलिस के कब्जे में दे दी। इससे पूर्व किताबों की एक खेप कबाड़ में बेची जा चुकी थीं। अभी तक मामले की जांच नहीं हुई और न ही किसी के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई गई।
अब शासन तक मामला पहुंचा तो एडी बेसिक ने बीएसए से किताबों का विवरण मांगा है। कहा है कि किताबें बच्चों को न बांटकर कबाड़ी को बेच दी गई। इससे सरकारी धन का दुरुपयोग हुआ है।

Spotlight

Related Videos

16 साल की उम्र में ये लड़का है 700 कारों का मालिक!

कहते हैं शौक बड़ी चीज है और जिसे एक बार शौक लग जाए तो फिर पूछिए ही मत। ऐसा ही एक शौक लग गया है देहरादून के रहनेवाले 16 साल के ध्रुव को। ध्रुव को कारों का शौक है और अबतक ध्रुव ने अपने कलेक्शन में 700 कारों को जमा कर लिया है।

21 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen