विज्ञापन

अब प्रत्याशियों का जोर जातिगत समीकरण पर

Badaun Updated Thu, 21 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। अब नगर निकाय के लिए होने वाले मतदान को महज चार दिन बाकी हैं। शहर नगरपालिका के लिए कुल 12 उम्मीदवार मैदान में हैं। एक अनुमान के मुताबिक इनके भाग्य का फैसला 1,29,174 मतदाता करेंगे। कितने लोग वोट डालेंगे यह तो चुनाव के दिन ही पता चलेगा, लेकिन जातिगत आंकड़े का खेल शुरु हो चुका है। यहां मोटे तौर पर 78 हजार मतदाता विभिन्न हिंदू जातियों से जुड़े हैं। इनके सहारे आठ प्रत्याशी मैदान में हैं। दूसरे नंबर पर 51 हजार मुस्लिम मतदाताओं को देखते हुए चार मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में हैं।
विज्ञापन
संगठनों पर डोरे डाले जा रहे
जातिगत संगठनों के सहारे अपनी नैया पार करने को प्रत्याशी उनके पदाधिकारियों पर डोरे डालकर समर्थन लेने और नुक्कड़ सभाओं में ऐलान करने का दौर चरम पर पहुंच गया है। प्रत्याशी एक-दूसरे के वोट बैंक में सेंधमारी करने से भी नहीं चूक रहे हैं। हालांकि मतदाता चुप्पी साधे हुए हैं। प्रत्याशी और उनके समर्थक खुद उन्हें अपना अथवा दूसरे का वोट बैंक बताते हुए फिर रहे हैं। इसी आधार पर जोड़-तोड़ हो रही है।
इस मैदान में सभी पहलवान
निकाय चुनाव में दिलचस्प ये है कि जितने प्रत्याशी हैं सभी के पास खुद के नंबर एक पर रहने के आंकड़ेे हैं। कोई जातिगत हिसाब से अपना गणित ऊपर बता रहा है तो कोई विकास कार्यों और समस्याओं के लिए किए गए आंदोलनों को सहारा बता रहा है। इतना ही नहीं दूसरों की जमानत जब्त होने का भी आंकड़ा इन चुनावी पहलवानों के पास है। वह जातीय गणित के आधार पर बताते हैं कि कौन कितना वोट पाएगा। यही बात वह मोहल्लों में प्रचार के दौरान संगठनों के मुखिया को भी बताते फिर रहे हैं।

ये हैं निकाय चुनाव में अध्यक्ष पद के उम्मीदवार
कांग्रेस प्रत्याशी वसीम अहमद अंसारी, भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश मथुरिया, मनोज कृष्ण गुप्ता, तनवीर, सुल्तान सलाउद्दीन, माधवी साहू, इंदु सक्सेना, शशिबाला कश्यप, अनिल जोशी, सीमा राठौर, गीता रानी गाडगे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

रोमांटिक फिल्मों का शहंशाह जिसने बदल दिया बॉलीवुड फिल्मों का नक्शा

यश चोपड़ा ने बॉलीवुड फिल्मों का दौर बदल दिया। उन्होंने वक्त से आगे बढ़कर फिल्में बनाईं। यश चोपड़ा की फिल्में वक्त से आगे की कहानी कहती थीं। देखिए कैसे उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों की तासीर ही बदलकर रख दी।

26 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree