विज्ञापन

अब प्रत्याशियों का जोर जातिगत समीकरण पर

Badaun Updated Thu, 21 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। अब नगर निकाय के लिए होने वाले मतदान को महज चार दिन बाकी हैं। शहर नगरपालिका के लिए कुल 12 उम्मीदवार मैदान में हैं। एक अनुमान के मुताबिक इनके भाग्य का फैसला 1,29,174 मतदाता करेंगे। कितने लोग वोट डालेंगे यह तो चुनाव के दिन ही पता चलेगा, लेकिन जातिगत आंकड़े का खेल शुरु हो चुका है। यहां मोटे तौर पर 78 हजार मतदाता विभिन्न हिंदू जातियों से जुड़े हैं। इनके सहारे आठ प्रत्याशी मैदान में हैं। दूसरे नंबर पर 51 हजार मुस्लिम मतदाताओं को देखते हुए चार मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में हैं।
विज्ञापन

संगठनों पर डोरे डाले जा रहे
जातिगत संगठनों के सहारे अपनी नैया पार करने को प्रत्याशी उनके पदाधिकारियों पर डोरे डालकर समर्थन लेने और नुक्कड़ सभाओं में ऐलान करने का दौर चरम पर पहुंच गया है। प्रत्याशी एक-दूसरे के वोट बैंक में सेंधमारी करने से भी नहीं चूक रहे हैं। हालांकि मतदाता चुप्पी साधे हुए हैं। प्रत्याशी और उनके समर्थक खुद उन्हें अपना अथवा दूसरे का वोट बैंक बताते हुए फिर रहे हैं। इसी आधार पर जोड़-तोड़ हो रही है।
इस मैदान में सभी पहलवान
निकाय चुनाव में दिलचस्प ये है कि जितने प्रत्याशी हैं सभी के पास खुद के नंबर एक पर रहने के आंकड़ेे हैं। कोई जातिगत हिसाब से अपना गणित ऊपर बता रहा है तो कोई विकास कार्यों और समस्याओं के लिए किए गए आंदोलनों को सहारा बता रहा है। इतना ही नहीं दूसरों की जमानत जब्त होने का भी आंकड़ा इन चुनावी पहलवानों के पास है। वह जातीय गणित के आधार पर बताते हैं कि कौन कितना वोट पाएगा। यही बात वह मोहल्लों में प्रचार के दौरान संगठनों के मुखिया को भी बताते फिर रहे हैं।

ये हैं निकाय चुनाव में अध्यक्ष पद के उम्मीदवार
कांग्रेस प्रत्याशी वसीम अहमद अंसारी, भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश मथुरिया, मनोज कृष्ण गुप्ता, तनवीर, सुल्तान सलाउद्दीन, माधवी साहू, इंदु सक्सेना, शशिबाला कश्यप, अनिल जोशी, सीमा राठौर, गीता रानी गाडगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us