विज्ञापन

गर्मी से प्रसूताओं का बुरा हाल, नहीं चलता जेनरेटर

Badaun Updated Wed, 20 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। जिला महिला अस्पताल में गर्मी से प्रसूताओं का बुरा हाल है। प्रसूताओं के अनुसार बिजली जाने के बाद जेनरेटर नहीं चलाया जाता है। जबकि डीजल पर लाखों रुपये हर माह खर्च दिखाया जा रहा है। परिवारीजन भी बरामदे और पेड़ के नीचे सिर छुपाए हुए हैं।
विज्ञापन
अस्पताल में हर दिन 20 से 30 प्रसूताओं को भर्ती कराया जाता है। इस समय कुल भर्ती मरीजों की संख्या 50 के पार है। यह पीएनसी वार्ड, जनरल वार्ड आदि में भर्ती हैं, लेकिन इन मरीजों का दर्द कम होने के बजाय गर्मी में बढ़ रहा है। बिजली कभी आती है तो कभी नहीं। लोकल फाल्ट के कारण कई घंटे गायब रहती है। पंखे चलते भी हैं तो लो वोल्टेज के कारण उनकी हवा नीचे तक नहीं आ पाती। जेनरेटर बिजली जाने के बाद चलाया ही नहीं जाता। दिनभर मरीज पंखा झलते रहते हैं।
शेखूपुर निवासी प्रसूता रजनी, उसावां निवासी हेमवती, जगत निवासी सुंदरी का कहना है कि बिजली आती ही नहीं। जेनरेटर कभी कभार ही चलाया जाता है। गर्मी से बुरा हाल है। हमारी यहां रुकना मजबूरी है। परिवारीजन भी अस्पताल पेड़ के नीचे शरण लिए हुए हैं। कोई सुनने वाला नहीं है। दिनभर पंखा झलते हैं। बुधवार को तो छुट्टी मिल जाएगी। उसके बाद कुछ राहत मिलेगी। इस संबंध में सीएमएस रेखा रानी से कई बार संपर्क किया गया, लेकिन फोन रिसीव नहीं किया।

तेल में हो रहा खेल
विभागीय सूत्रों का कहना है कि जेनरेटर के लिए लाखों रुपये हर माह डीजल के लिए मिलते हैं, लेकिन यह रकम मरीजों के काम नहीं आ रही है। उनका गर्मी में दम घुट रहा है, पर जेनरेटर नहीं चलता। लोगों का कहना है कि सिर्फ कागजों में ही डीजल खर्च दिखाया जा रहा है। यह रकम ऊपर तक अधिकारियों के पास जा रही है। इसमें बंदरबांट होता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

छात्रनेता सुमित शुक्ला की हत्या का CCTV फुटेज, पीछे से गोली मारकर भागा आरोपी

प्रयागराज में छात्रनेता अच्युतानंद उर्फ सुमित शुक्ला हत्याकांड में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने हत्या के आरोप में सीएमपी छात्रसंघ अध्यक्ष समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वहीं इस हत्या का CCTV फुटेज भी आ गया है।

12 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree