विज्ञापन

आग की लपटों से पूरा गठौरा गांव जला

Badaun Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
कादरचौक (बदायूं)। एक घर में रविवार की दोपहर में लगी आग ने देखते ही देखते इतना विकराल रूप धारण कर लिया कि पूरे गांव के 62 घरों में रखा सामान और अनाज जलकर राख हो गया। घटना के दो घंटे बाद पहुंची दमकलकर्मियों ने लगभग डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया लेकिन तब तक घरों में रखा सामान राख के ढेर में बदल गया था।
विज्ञापन

पड़ोसी जिला कांशीरामनगर की सीमा के गांव गठौरा की सुरक्षा व्यवस्था कादरचौक पुलिस के जिम्मे है। रविवार की दोपहर लगभग 12 बजे गांव निवासी रामसिंह के घर में अचानक आग लग गई। इससे पहले कि रामसिंह और उनकेपरिवार केलोग कुछ समझ पाते, आग ने विकारल रूप धारण करते हुए पड़ोसी राजवीर, रनवीर, रामदास, सुखराम, ईश्वरी, मन्नू, लालता, निर्भान सिंह, ज्वाला प्रसाद और धन्नू के घरों को चपेट में ले लिया। इससे गांव में अफरातफरी मच गई। ग्रामीणों ने नलकूप चलाकर आग पर काबू पाने का प्रयास किया लेकिन हवा का रुख तेज होने के कारण आग ने गांव के सभी 62 घरों को चपेट में ले लिया।
दोपहर लगभग दो बजे पहुंची दमकल विभाग की गाड़ी से आग बुझाने का प्रयास शुरू कर दिया गया। शाम साढ़े तीन बजे आग बुझा ली गई लेकिन तब तक रामसिंह की एक गाय और बछड़ा जिंदा जल गए थे। इसके अलावा घरों में रखा लगभग 20 हजार क्विंटल गेहूं, सौ क्विंटल कद्दू, जेवर और नकदी समेत घरों का अन्य सामान आग की भेंट चढ़ चुका था।
रामसहाय नगला में भी लगी आग
गठौरा में लगी आग पास के गांव रामसहाय नगला भी पहुंच गई। आग से गांव निवासी सियाराम, देवेंमद्र, सुखराल, लल्लू और नज्जू समेत आठ लोगों केघरों में रखा सामान जल गया। यहां ग्रामीणों ने निजी संसाधनों से आग पर काबू पा लिया। घटना की सूचना पर बदायूं की तहसील प्रशासन की टीम क्षति का आंकलन करने मौके पर पहुंच गई लेकिन देर शाम तक काशीरामनगर की टीम यहां नहीं पहुंची थी। भुक्तभोगियों का कहना है कि आग से लगभग 20 लाख रुपये की क्षति हुई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us