शिक्षक की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या

Badaun Updated Sun, 17 Jun 2012 12:00 PM IST
सिलहरी (बदायूं)। आंवला-बदायूं मार्ग पर शनिवार को दिनदहाड़े एक शिक्षक पर कार सवार लोगों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी। इस घटना से इलाके में अफरातफरी मच गई। शिक्षक बरेली के कस्बा आंवला के रहने वाले थे। वह एक मुकदमे की पैरवी में बदायूं आए थे, परिवार के लोगों का कहना है कि दूसरे पक्ष के लोगों ने शिक्षक की हत्या की है। वारदात को अंजाम देकर हत्यारे कार में सवार होकर बिसौली की ओर भागे, यहां वजीरगंज और बिसौली थानों की पुलिस ने उनका पीछा किया लेकिन हत्यारे हाथ नहीं लगे। इस मामले में देर रात तक परिवार के लोगों ने पुलिस को तहरीर नहीं दी थी।
बरेली के कस्बा आंवला के मोहल्ला गंजपीतमपुर निवासी 40 वर्षीय नारायण सिंह रामपुर के गांव मधुकर ढकिया स्थित जनता जूनियर हाईस्कूल में प्रधानाध्यापक थे। यहां उनका गांव के ही कुछ दबंगों से विद्यालय की जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। एक दशक पूर्व थाना फैजगंज बेहटा से शिक्षक का अपहरण हुआ था, इस मामले में गांव मधुकर ढकिया के ब्रजराज सिंह, शिवराज सिंह, हरिराज और अभिनंदन को नामजद किया गया था। शिवराज अभी जेल में बंद है।
शनिवार को इस मुकदमे की तारीख करने के लिए नारायण सिंह अपनी बाइक से बदायूं आए थे, यहां से शाम लगभग साढ़े तीन बजे वह वापस आंवला लौट रहे थे। रास्ते में थाना सिविल लाइंस क्षेत्र के गांव सालारपुर स्थित ब्लाक कार्यालय से चंद कदम आगे निकलते ही पीछे से आ रहे कार सवार कुछ लोगों ने कार की साइड मारकर बाइक गिरा दी। इससे पहले कि नारायण सिंह कुछ समझ पाते, कार सवारों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर उनकी हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देकर हत्यारे कार से बिसौली की ओर भागे। पुलिस को इसकी भनक लगने पर वजीरगंज और बिसौली थानों की पुलिस उन्हें पकड़ने के प्रयास में जुट गई लेकिन कार सवार लोग दबतोरी होते हुए रामपुर की ओर भाग निकले। एसपी मंजिल सैनी और एएसपी पियूष श्रीवास्तव ने घटनास्थल का मुआयना किया। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। देर रात तक परिवार के लोग दूसरे पक्ष के लोगों के खिलाफ तहरीर देने की तैयारी कर रहे थे। एसपी मंजिल सैनी ने बताया कि तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज किया जाएगा। रामपुर पुलिस को मामले की जानकारी दे दी गई है, दूसरे पक्ष के लोगों की तलाश की जा रही है।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: बेबसी में मिट्टी की रोटी खाता है पूरा गांव

गरीबी इंसान से क्या क्या नहीं करवाती है। दुनियाभर में कई ऐसे देश हैं जो सालों से गरीबी की वजह से जानवरों जैसी जिंदगी जीने पर मजबूर हैं।

22 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen