मतदाताओं की चुप्पी तोड़ने को झोंक दी है ताकत

Badaun Updated Sun, 17 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
प्रताप यादव
विज्ञापन

उझानी(बदायूं)। पालिकाध्यक्ष के चुनाव में इस बार न तो जातीय आंकड़ों का गणित प्रभावी नजर आता और नहीं मुद्दों की राजनीति का असर दिख रहा है। बात पिछली बार हुए निकाय चुनाव के बाद इस बार कई जातियों के वोटरों के बढ़ने का अंदाजा लगाया जा रहा है। उधर, चुनावी चक्रव्यूह की स्थिति साफ करने के लिए मतदाताओं की चुप्पी तोड़ने को प्रत्याशियों ने पूरी ताकत झोंक दी है।
निकाय चुनाव का नामांकन समाप्त होने के साथ ही प्रत्याशियों ने प्रचार के शुरुआती दौर में जातीय आंकड़ों के खेल को प्रभावी बनाने की कोशिश की। मुद्दों की बयार भी नहीं चली। प्रत्याशियों ने कुछ ऐसे ही कई अन्य तथ्यों को नजरअंदाज कर अब तो जो संकेत दिए हैं, उससे साफ है कि दावों और वायदों के आगे शायद ही किसी तरह का जादू चल पाए। चुनावी राजनीति के जानकार बताते हैं कि मतदाता प्रत्याशियों के कद को भी तव्वजो दे सकते हैं। हालांकि बड़े नेताओं में सांसद धर्मेंद्र यादव के अलावा किसी और दिग्गज ने दस्तक नहीं दी है लेकिन चुनावी हवा बनाने के लिए अन्य नेता भी आ सकते हैं। इसके विपरीत एक-दो उम्मीदवार अपने बलबूते ही माहौल बनाने के साथ मतदाताओं को रिझाने में जुटे हैं।
उझानी में प्रत्याशी
पूनम अग्रवाल पत्नी विमलकृष्ण अग्रवाल
रतनेश यादव पत्नी कृष्णपाल सिंह
सावित्री देवी पत्नी ठाकुर प्रताप सिंह
रानीसवा पत्नी डा.नईमउद्दीन
संध्या रानी पत्नी मुन्नालाल गोस्वामी
मनोरमा यादव पत्नी वीरेंद्र पाल सिंह
जरीना फईम पत्नी फईमउज्जमा अंसारी
मुन्नी बेगम पत्नी रियासत अली खां
नाजिस बेगम पत्नी राशिद नेता

कुल मतदाता-42365
महिला-19927
पुरूष-22438
वार्ड- 25
कुल बूथ-19
संवेदनशील-04
अति संवेदनशील-09
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us