घर से लापता बच्ची जंगल में मिली

Badaun Updated Sat, 16 Jun 2012 12:00 PM IST
दबतोरी (बदायूं)। बृहस्पतिवार की रात महज ढाई साल की बच्ची घर से लापता हो गई। बच्ची की तलाश में निकले ग्रामीण अरिल नदी की कटरी में होते बदायूं की सीमा में आ गए। यहां ग्रामीणों को तंत्रक्रिया करने का सामान पड़ा मिला। आसपास तलाश करने पर गांव हरदासपुर की एक महिला के पास बच्ची मिल गई। महिला का कहना है कि बच्ची उन्हें जंगल में पड़ी मिली थी। ग्रामीणों का अनुमान है कि कोई तांत्रिक बच्ची की बलि देने के लिए उसका अपहरण किया था। घटना की तहरीर पुलिस को दी गई है।
घटना बरेली के थाना सिरौली क्षेत्र के गांव व्योदल खुर्द की है। गांव निवासी महेश प्रजापति गैर प्रांत में मजदूरी करता है। बृहस्पतिवार की रात उसकी पत्नी सुमित्रा अपने तीन पुत्रों और ढाई वर्षीय पुत्री सपना के साथ घर में सो रही थी। मध्यरात्रि में सुमित्रा की आंख खुली तो सपना अपने बिस्तर पर नहीं थी। आसपास तलाश करने के बाद सुमित्रा ने ग्रामीणों को मामले की जानकारी दी।
बच्ची की खोज में दर्जनों ग्रामीण अरिल नदी की कटरी की ओर निकल पड़े। बदायूं की सीमा में घुसने पर गांव वालों को तंत्र क्रिया का कुछ सामान पड़ा मिला। सामान को देख ग्रामीण दंग रह गए, और बच्ची की तलाश में जंगल की छानबीन शुरू कर दी। इस दौरान बरेली के ही गांव हरदासपुर निवासी कालीचरन की पत्नी समीरन के पास बच्ची मिल गई। कालीचरन ने बताया कि वह गांव के निर्माणाधीन विद्यालय में बतौर चौकीदार काम करता है। कोई व्यक्ति इस बच्ची को विद्यालय के पीछे जंगल में छोड़ गया। बच्ची के रोने की आवाज सुनकर वह बच्ची को उठा लाए। ग्रामीणों ने बताया कि बच्ची को तांत्रिक बलि के उठाकर लाया था। उनके आने पर वह उसे जंगल में छोड़कर भाग निकला। घटना की तहरीर सिरौली थाना पुलिस को दी गई है। एसआई रणवीर यादव ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

Spotlight

Related Videos

सुबह-सुबह फटाफट देखिए देश-प्रदेश की सुपरफास्ट खबरें सिर्फ 10 मिनट में

सबसे बड़ी खबर, अमेरिका ने खुद को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से अलग कर लिया है। वहीं फीफा विश्वकप में आठ गोल करके मेजबान रूस का अंतिम 16 में जाना तय और अबतक की सबसे खराब आईसीसी रैंकिंग पर पहुंचा ऑस्ट्रेलिया।

20 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen