बिना टीईटी पास रखे गए शिक्षकों को हटाने के आदेश

Badaun Updated Sat, 16 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

सुशील कुमार
विज्ञापन

बदायूं। सरकारी स्कूलों में बिना शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) उत्तीर्ण किए ही लोगों को शिक्षक के पदों पर तैनात कर दिया गया। जबकि मृतक आश्रितों को इस पद पर तभी रखा जाना था जब वह टीईटी परीक्षा उत्तीर्ण कर लें। शासन को इसकी भनक लगी तो उन्होंने इनकी नियुक्ति निरस्त कर हटाने के आदेश दिए हैं। इससे अधिकारियों और शिक्षकों में अफरातफरी मची हुई है। यह शिक्षक जुलाई 2011 के बाद तैनात किए गए हैं। ऐसे शिक्षकों की संख्या जिले में दो दर्जन से अधिक बताई जा रही है। इनका वेतन भी विभाग से निकल रहा है। आदेश मिलते ही बेसिक शिक्षा विभाग के अफसर इन शिक्षकों को नोटिस जारी करने की तैयारी कर रहा है। स्पष्टीकरण के बाद इन्हें हटाया जाएगा।
विदित हो कि पिछले साल 2011 में मृतक आश्रित के रुप में शिक्षक के पदों पर तीन दर्जन से अधिक तैनाती हुई, लेकिन जुलाई माह में आदेश आया कि शिक्षक वही बन सकते हैं जिन्होंने शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की हो। इस आदेश के बाद भी दो दर्जन नियुक्ति अधिकारियों ने कर दी। उन्हें प्रशिक्षण दिलाकर स्कूलों में भेज दिया गया। अधिकारियों की अनुमति पर ही उनका वेतन निकलने लगा। अब शासन ने सभी जिलों के बीएसए को आदेश दिए हैं कि जुलाई के बाद जिन शिक्षकों की तैनात मृतक आश्रित के रुप में हुई है और उन्होंने टीईटी परीक्षा उत्तीर्ण नहीं की है उनकी नियुक्ति निरस्त करें और नियुक्त करने वाले अधिकारी का नाम बताएं। ताकि उनके खिलाफ आरोप पत्र तैयार कर अग्रिम कार्रवाई की जा सके।
बेसिक शिक्षा अधिकारी कृपाशंकर वर्मा ने बताया कि इस संबंध में आदेश शासन से मिल चुके हैं, टीईटी उत्तीर्ण किए बगैर मृतक आश्रित के रुप में जो शिक्षक बने हैं उनकी सूची तैयार की जा रही है। उनको नोटिस जारी कर जवाब तलब किया जाएगा। उसके बाद अग्रिम कार्रवाई होगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us