विज्ञापन

गरीबों के रोजगार का सहारा बनी मनरेगा कंगाल

Badaun Updated Fri, 15 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। हजारों मजदूरों को काम देने वाली मनरेगा इन दिनों खुद ही पाई-पाई की मोहताज है। ज्यादातर ग्राम पंचायतों में या तो काम ठप है या फिर जहां थोड़ी-बहुत रकम है भी, वहां छोटे-मोटे ही काम चल पा रहे हैं। इधर, शासन से अभी मनरेगा का पर्याप्त बजट न उपलब्ध हो पाने से बाद में वित्तीय साल के काम समय से पूरा करने में भी खासी परेशानी होगी।
विज्ञापन
सूबे की सत्ता बदलने के साथ स्थानांतरण सहित अन्य उथल-पुथल के बीच एक तो मनरेगा का नया बजट प्रस्ताव तैयार करने में ही काफी विलंब हो गया। इसी बीच, पिछले साल का अवशेष करीब 20 करोड़ से काम चलाने की कोशिश की गई। इधर, प्रशासन ने 105 करोड़ का नए वित्तीय साल का बजट बनाकर भेज दिया। समय से मनरेगा को पैसा जारी न हो पाने के कारण ज्यादातर ग्राम पंचायतों में धन का अकाल है। कुछ ग्राम पंचायतों में थोड़ा-बहुत बजट है भी, तो उससे छोटे-मोटे ही काम ही कराए जा पा रहे हैं। अभी शासन समय से मनरेगा का बजट जारी करने में देरी कर रहा है। बाद में इस वित्तीय साल के काम समय से पूरा कराने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी।

ग्राम पंचायतों की ये है हालत
उझानी ब्लाक की 29 ग्राम पंचायतों में नाम मात्र को बजट है। ऐसे में यहां मनरेगा का काम ठप है। इसके अलावा 25 ऐसी ग्राम पंचायतें हैं, जहां 70 से एक लाख रुपये तक ही धनराशि है, ऐसे में यहां छोटे-मोटे ही काम कराए जा पा रहे हैं। इसके अलावा कादरचौक ब्लाक की ज्यादातर ग्राम पंचायतों का भी यही हाल है। यहां 47 ग्राम पंचायतों में 20 से 50 हजार रुपये से ज्यादा किसी के पास नहीं है। जबकि इस धनराशि से बेहद छोटी कार्य के अलावा कोई बड़ी कार्ययोजना करा पाना मुमकिन नहीं है। यही हाल जिले की अन्य ग्राम पंचायतों की है।

फर्जी काम न पकड़े जाने से अफसर खुद शक के दायरे में
ग्राम पंचायत में ज्यादातर प्रधान जी के चहेते जॉबकार्डधारकों के नाम मस्टर रोल पर दर्ज कर मजदूरी वसूल कर ली जाती है। जबकि मस्टर रोल पर जितनी इंट्री दर्ज होती है, कार्यस्थल पर मजदूरों की संख्या उससे कहीं कम होती है। इस तरह के फर्जीवाड़े से मनरेगा में घपलेबाजी का बड़ा खेल चल रहा है, जबकि ऐसे मामलों के खुलासे में मनरेगा से जुड़े अधिकारी नहीं कर रहे। ऐसे में इस गोलमाल में उनकी भी भूमिका शक के दायरे में है।

यह सही है कि मनरेगा में बजट की कमी से काम प्रभावित हुआ है लेकिन हाल ही में जिले को 11 करोड़ मिल जाने से कुछ राहत मिली है।
कृपाशंकर राम, पीडी, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

नसीरुद्दीन शाह के फेवरेट थे ये ‘जंगली’ हीरो

बॉलीवुड एक्टर शम्मी कपूर अपने वक्त के तमाम कलाकारों से बेहद अलग थे। उन्होंने फिल्मों में हीरो की एक अलग ही छवि पेश की। आज जानिए शम्मी कपूर की जिंदगी से जुड़ी कुछ ऐसी बातें जिससे कम लोग ही परिचित हैं।

20 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree