फसलोत्पादन बढ़ाने के लिए कल्चर के दो लाख पैकेट हुए तैयार

Badaun Updated Thu, 14 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

बदायूं। अगले माह दलहनी फसलों की बुवाई शुरु हो जाएगी। इसी के मद्देनजर मृदा परीक्षण प्रयोगशाला में कल्चर बनाई जा रही है। लगभग दो लाख पैकेट इसके तैयार हो गए हैं। यह जिले के किसान केंद्रों के अलावा अन्य जनपदों को भी भेजे जाएंगे। इसके प्रयोग से फसलोत्पादन बढ़ता है।
विज्ञापन

जिला कृषि अधिकारी आरके सिंह ने बताया कि कल्चर तीन प्रकार की होती है। फास्फेट सोलिजियम बैक्टीरिया किसी भी फसल में प्रयोग कर सकते हैं। यह पाउडर की तरह होती है। राइजोबियम कल्चर दलहनी फसलों के लिए लाभदायक होती है। यह पौधे को जड़ों से नाइट्रोजन पहुंचाती है। दलहनी फसलों की बुवाई भी जुलाई माह में शुरु हो जाएगी। यह उसी दौरान प्रयोग की जाती है। एजेक्टोबेक्टर गेहूं की फसल के लिए उपयोगी होती है।
मृदा प्रयोगशाला में विशेषज्ञ कल्चर के दो लाख पैकेट बना चुके हैं। यह जिले के अलावा रामपुर, बरेली, जेपी नगर आदि जनपदों में भेजी जाएगी। बताया जाता है कि कल्चर का एक पैकेट किसानों को पांच रुपये में अनुदान पर मिलेगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us