युवक के अपहरण से दहशत, छुड़ाया

Badaun Updated Wed, 13 Jun 2012 12:00 PM IST
कादरचौक (बदायूं)। खेत की मेड़ को लेकर दो पक्षों की बीच चल रही रंजिश में मंगलवार को बदमाशों ने दिनदहाड़े एक युवक का अपहरण कर लिया। युवक को खेत में ले जाकर बदमाशों ने उसकी पिटाई लगाना शुरू कर दी। सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस मुठभेड़ के बाद अपहृत युवक को छुड़ा लाई पुलिस ने एक बदमाश को भी गिरफ्तार किया है। पकड़े गए व्यक्ति के खिलाफ कादरचौक थाने में हत्या और अपहरण की धाराओं समेत 19 मुकदमे दर्ज हैं।
थाना क्षेत्र के गांव सिमरा निवासी जयपाल के 50 वर्षीय पुत्र नंदकिशोर का खेत की मेड़ को लेकर गांव के ही सुम्मेरी से झगड़ा चल रहा है। सोमवार की दोपहर दोनों पक्षों के बीच कहासुनी हुई थी। इसमें नंदकिशोर ने सुम्मेरी को जमकर खरीखोटी सुनाई थीं। उस समय तो ग्रामीणों ने बीच में हस्तक्षेप कर मामला सुलटा दिया लेकिन सुम्मेरी के मन में बदले की आग भड़क रही थी।
घटना मंगलवार की सुबह लगभग साढ़े नौ बजे की है। नंदकिशोर अपने घेर में सो रहा था, जबकि परिवार के अन्य सदस्य खेत पर काम करने गए थे। इस दौरान सुम्मेरी का दोस्त रूमसिंह उर्फ रूमी निवासी गांव बालजीतनगला अपने तीन साथियों को लेकर वहां आ धमका। रूमसिंह दिनदहाड़े नंदकिशोर को साथियों की मदद से उठाकर पास के गांव गड़िया के जंगल में ले गया। युवक केपरिवार के लोगों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने थाने पहुंचकर पुलिस को घटना की जानकारी दी।
दिनदहाड़े अपहरण की वारदात की खबर पर थाना पुलिस में अफरातफरी मच गई। आनन-फानन में पुलिस ने जंगल में पहुंचकर कांबिंग शुरू कर दी। गांव गड़िया के ईख के खेत से पुलिस को किसी युवक की चीख सुनाई दी। खेत की घेराबंदी करने पर बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ के बाद रूमसिंह को एक तमंचा समेत गिरफ्तार किया है। इस दौरान उसके साथी वहां से भाग निकले। पुलिस रूमसिंह और नंदकिशोर को थाने ले आई। एसओ धीरज सिंह सोलंकी ने बताया कि रूमसिंह के खिलाफ लूट, हत्या, डकैती, अपहरण और हत्या का प्रयास समेत लगभग 19 मुकदमे दर्ज हैं। उसकी थाने में हिस्ट्रीशीट भी खुली हुई है।

Recommended

Spotlight

Related Videos

अटल बिहारी वाजपेयी की भांजी हुई भावुक, मांगी ये दुआ

अटल बिहारी वाजपेयी की बेहतरी के लिए पूरा देश दुआ मांग रहा है। हर कोई ये दुआ कर रहा है कि एक बार फिर से वो स्वस्थ होकर घर वापस जाएं। वहीं उनकी भांजी की कामना है कि वो एक बार फिर से उन्हें भाषण देते देखें।

16 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree