विज्ञापन

डॉक्टर और लिपिक के बीच मारपीट, अफरा-तफरी

Badaun Updated Sun, 10 Jun 2012 12:00 PM IST
बदायूं। जिला महिला अस्पताल में तैनात स्त्री रोग विशेषज्ञ और सीएमओ कार्यालय के लिपिक के बीच शुक्रवार की देरशाम मारपीट हो गई। इससे अस्पताल के पास अफरातफरी मच गई। इस मामले में लिपिक की ओर से डॉक्टर के खिलाफ सदर कोतवाली में एनसीआर दर्ज की गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
घटना शुक्रवार की देरशाम की है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में वरिष्ठ लिपिक के पद पर तैनात सुरेश चंद्र कार्यालय से घर लौट रहे थे। इस दौरान महिला अस्पताल के गेट पर वहां कार्यरत स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. हाकिम सिंह और एक महिला निजी चिकित्सक उन्हें मिल गई। लिपिक और महिला डॉक्टर के बीच बात चल रही थी। आरोप है कि इस बीच डॉ हाकिम बोल उठे। किसी बात को लेकर मामला गर्माया गया और बातचीत बढ़ने पर लिपिक और चिकित्सक के बीच मारपीट होने लगी। वहां मौजूद कुछ लोगों ने बीचबचाव करते हुए मामला शांत कराया। शुक्रवार देर रात सदर कोतवाली पुलिस ने लिपिक की शिकायत पर डॉ हाकिम और निजी महिला चिकित्सक डॉ सुमन गुप्ता के खिलाफ एनसीआर दर्ज की है।

महिला डॉक्टर की ओर से भी एनसीआर
शनिवार को सदर कोतवाली में दर्ज एनसीआर में महिला डॉक्टर सुमन गुप्ता ने बताया है कि पिछले दिनों वह शहर के नेकपुर मलिन बस्ती स्थित हेल्थ पोस्ट सेंटर पर तैनात थीं। उनका वेतन 24 हजार रुपये प्रतिमाह था। आरोप है कि लिपिक उन्हें वेतन में से 12 हजार रुपये देते थे और 24 हजार प्राप्त करने के रजिस्टर पर हस्ताक्षर करवाते थे। उनका कुछ वेतन रुका हुआ है, इसके बारे में जानकारी करने वह सीएमओ कार्यालय की ओर गई थीं। शुक्रवार को कार्यालय के बाहर मिले लिपिक सुरेश चंद्र ने उन्हें गालियां देने के साथ ही बेल्ट से पिटाई की। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने लिपिक के खिलाफ एनसीआर दर्ज की है।


वरिष्ठ लिपिक महिला डॉक्टर सुमन से गालीगलौच कर रहे थे। मैंने इसका विरोध किया तो मुझे और डॉ. सुमन दोनों को लिपिक ने बेल्ट से पीटा। मेरी तरफ से कोई मारपीट नहीं की गई है।
डॉ. हाकिम सिंह, स्त्रीरोग विशेषज्ञ, महिला अस्पताल


मैं महिला चिकित्सक से अस्पताल में बात कर रहा था, उसी दौरान डॉक्टर हाकिम सिंह बीच में आ गए। उन्होंने मेरे समेत कार्यालय के सभी लिपिकों को गाली दी, हाथापाई पर उतारू हो गए, इसलिए मैंने अपना बचाव किया।
सुरेश चंद्र, वरिष्ठ लिपिक सीएमओ कार्यालय

Recommended

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे
ADVERTORIAL

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

कर्मचारियों को जानवर बना देतीं हैं चीनी कंपनियां, कभी मूत्र पिलाती हैं तो कभी करेला खिलाती हैं

चीन में अपना टारगेट न पूरा करने पर कंपनी ने कर्मचारियों को सड़क पर रेंगने के लिए मजबूर कर दिया। चीन में ये पहला मामला नहीं है जब कर्मचारियों को टारगेट पूरा न करने पर ऐसी सजा मिली हो इससे पहले भी कई बार हैरान कर देने वाले मामले सामने आते रहे हैं।

18 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree