तालगांव के प्रधान ने ससुराल में ली शरण

Badaun Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
बदायूं। थाना मूसाझाग क्षेत्र के तालगांव में दबंगों के खौफ से पलायन करने वाले प्रधान इकरार ने तीसरे दिन बृहस्पतिवार को सुरक्षा कर्मियों के साथ अपनी ससुराल में शरण ली। इससे पूर्व दिन में उन्होंने एसपी मंजिल सैनी से मुलाकात कर साफतौर से कहा कि जब तक दबंग गिरफ्तार नहीं होते तब तक मुझे अपने बचाव में गांव से दूर ही रहना पड़ेगा, क्योंकि जिनके डर से मेरे और नौ परिवारों ने साथ पलायन किया उनकी ताकत के आगे दो सिपाही कहीं नहीं ठहरते। जब यह हमला करेंगे तो खुद सिपाही अपनी जान बचाते नजर आएंगे। एसपी ने उनकी बात को गंभीरता से लिया और मातहत अफसरों को सख्ती बरतने और दबंगों की धरपकड़ का निर्देश दिया। कहा कि यदि आरोपी गिरफ्तारी नहीं होते हैं तो उनके खिलाफ कुर्की की कार्रवई की जाएगी। एसपी से मिलकर प्रधान रात गुजारने के लिए ससुराल की तरफ निकल पड़े।
विदित हो कि प्रधानी के चुनाव की रंजिश के चलते तालगांव के कुछ दबंग ने बीती 31 मई को प्रधान इकरार, उनकेपिता रतनशाह और माता को जबरन घर से उठाकर ले गए थे। बाद में तीनों को अपने घर में बंधक बनाकर पीटा। पुलिस ने दबंगों के खिलाफ मारपीट का मुकदमा दर्ज किया और उन्हें थाने से जमानत दे दी। इसके बाद भी दबंग जान से मारने की धमकी देते रहे। जान बचाने को प्रधान दस कुनबों सहित पांच जून को गांव से पलायन कर गया। इसके एसपी के निर्देश पर दो सुरक्षाकर्मी दिए गए। दबंगों की गिरफ्तारी न होने पर ही प्रधान ने गांव में न रहने का फैसला लिया। इसी के चलते वह रिश्ते-नातेदारों के यहां रात गुजार रहे हैं।
प्रधान का कहना था कि वह सभी परिवारों के साथ तब ही वापस लौटेंगे जब सभी नामजदों की गिरफ्तारी हो जाएगी। क्योंकि नामजदों के खुले रहने से वे उनकी हत्या भी कर सकते हैं। एसपी के आश्वासन के बाद प्रधान थाना कादरचौक क्षेत्र के गांव गौरामई स्थित अपनी ससुराल चले गए।

Spotlight

Related Videos

देखिए सरकार ने क्यों लगाया फेसबुक-गुगल पर जुर्माना

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में फेसबुक, गुगल और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर 1 लाख का जुर्माना लगाया है। इस रिपोर्ट में देखिए आखिर क्यों लगा है जुर्माना।

22 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen