डॉक्टर का फिर तबादला, अबकी सोनभद्र भेजे गए

Badaun Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) की जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) में लाखों का घोटाला खोलने वाले चिकित्सक डॉ. एएस गौतम का फिर तबादला कर दिया गया। अबकी वह सोनभद्र भेजे गए हैं। जबकि डॉक्टर ने पहले ही इस्तीफा दे दिया था, लेकिन स्वीकार नहीं हुआ था तो उन्होंने फिर त्यागपत्र भेज दिया था। दूसरे इस्तीफे का जवाब नहीं मिला। इस्तीफा सशर्त था, उसमें कहा गया था कि घोटाले में शामिल लोगों पर कार्रवाई की बजाय उन्हें अच्छे पदों और नजदीक के स्थानों पर ही रखा जा रहा है। इस बारे में डॉ. गौतम का कहना है कि उनका तबादला इस बीच बहराइच हुआ था अब खबर है कि सोनभद्र कर दिया गया।
विज्ञापन

डॉ. गौतम ने बताया कि आरटीआई के तहत उनकी पत्नी ने घोटाले के आरोपियों के खिलाफ हुई कार्रवाई की सूचना शासन से मांगी थी। सूचना तो मुहैया नहीं कराई गई, पर स्थानांतरण की जानकारी जरुर दे दी गई। बसपा शासन में हुए इस घोटाले में उम्मीद नहीं थी कि पर्दाफाश नहीं होगा, लेकिन सीबीआई ने जब कड़े कदम उठाए तो उम्मीद जगी, बाद में प्रदेश में सपा की सरकार बनी तो भरोसा हुआ कि अब तक घोटाला करने वाले कतई नहीं बचेंगे, लेकिन हैरत हो रही है कि नौकरशाह अभी घोटालेबाजों को बचाने में ही लगे हैं।
विदित हो कि पिछले साल दिसंबर माह में प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. गौतम ने पीएचसी समरेर का चार्ज संभालते ही जेएसवाई में घोटाला खोला था। लगभग 162 फर्जी चेक पकड़े थे। इसके बाद घोटाले में लिप्त लोगों ने धमकी देनी शुरु कर दी। उनपर सीएमओ कार्यालय में आशाओं द्वारा हमला करवाया गया। उसके बाद उनका तबादला बरेली कर दिया गया, लेकिन सीबीआई के हस्तक्षेप के बाद रुक गया। फिर उनको अल्ट्रासाउंड की ट्रेनिंग के लिए बरेली भेज दिया गया और उन्हें वहीं तैनात कर दिया गया। डॉ. गौतम ने इसके बाद इस्तीफा भेजा, लेकिन स्वीकार नहीं हुआ।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us