विज्ञापन

रिटायर्ड दरोगा ने फिर ठोकी डिंपल के खिलाफ ताल

Badaun Updated Wed, 06 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
प्रताप यादव
विज्ञापन
उझानी(बदायूं)। यहां कोतवाली में तैनात रह चुके महेशचंद्र सेवानिवृत होने के बाद राजनीति की राह पकड़ी और वह कई राजनीतिक हस्तियों के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं। पिछली बार फिरोजाबाद से मुलायमसिंह यादव की पुत्रवधू डिंपल यादव के खिलाफ जोर आजमाइश कर चुके यह रिटायर्ड दरोगा ने एक बार फिर से उन्हीं के खिलाफ कन्नौज लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में ताल ठोकी है।
कानपुर देहात में स्वरूपनगर के मूल निवासी महेशचंद्र शर्मा वर्ष 1963 में पुलिस महकमा में भर्ती हुए। रिटायरमेंट उझानी कोतवाली से वर्ष 2001 में हो गया। तीन साल बाद उन्हें राजनीति करने का चस्का लगा। उस वक्त लखनऊ सीट के लिए हुए लोकसभा के चुनाव में उन्होंने आजाद उम्मीदवार के रूप में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के खिलाफ चुनाव लड़ा। यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ रायबरेली और पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ गाजियाबाद लोकसभा के चुनाव में हिस्सा ले चुके हैं। केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल का भी उन्होंने लोकसभा के ही चुनाव में कानपुर से सामना किया है। फिरोजाबाद लोकसभा सीट के उपचुनाव में उन्होंने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की पुत्रवधू डिंपल यादव के खिलाफ भी लड़ लिया। यह बात दीगर है कि उन्हें कभी कामयाबी नहीं मिल सकी।
पर्चा तो महेशचंद्र शर्मा ने राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल और उपराष्ट्रपति हामिद अली अंसारी के खिलाफ भी भर दिया था। वह मैनपुरी, कानपुर देहात, बनारस और बदायूं आदि जिले में बतौर दरोगा सेवा दे चुके हैं। श्री शर्मा अन्ना हजारे को अपना आदर्श मानते हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतना ही मेरा मकसद नहीं। भ्रष्टाचार के खिलाफ अलख जगाने निकल पड़ा, जिसमें प्रचार के दौरान काफी हद तक सफलता भी मिल जाती है। वह इन दिनों कन्नौज में हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के खिलाफ एक बार फिर से ताल ठोंकने को तैयारी में जुटे दरोगा जी ने बताया कि अब तक उन्होंने करीब दो दर्जन चुनाव लडे़ हैं। इनमें छात्रसंघ भी शामिल रहा।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

गुजरात के 1000 किसान पहुंचे हाईकोर्ट समेत इन खबरों पर रहेगी नजर

बुलेट ट्रेन से प्रभावित करीब एक हजार किसानों ने गुजरात उच्च न्यायालय में मंगलवार को हलफनामा दायर कर परियोजना का विरोध किया है और गोवा में राजनीति उठापटक समेत इन बड़ी खबरों पर रहेगी नजर।

18 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree