विज्ञापन

परिवहन राज्यमंत्री ने गेहूं क्रय केद्र पर मारा छापा

Badaun Updated Sun, 27 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
उझानी(बदायूं)। प्रदेश के परिवहन राज्य मंत्री मानपाल सिंह ने शनिवार कोेे यहां मंडी परिसर स्थित भारतीय खाद्य निगम (आरएफसी) और आवश्यक वस्तु निगम (एसएफसी) के गेहूं क्रय केंद्रों पर छापा मारा। हालांकि मौके पर कोई मामला पकड़ में नहीं आया, लेकिन आरएफसी के सेंटर पर किसानों ने सहसवान के एक व्यक्ति पर बिचौलिया की तरह काम करने का आरोप लगाया। डिप्टी आरएमओ को उसके बारे में जांच करने के निर्देश दिए।
विज्ञापन
शनिवार की देर शाम जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी रवि गौतम की तहरीर पर सहसवान के चौधरी मोहल्ला निवासी रईस अहमद, अलापुर निवासी शातिर अली और उझानी निवासी कमल के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज हो गई है। मंत्री की कार्रवाई से मंडी में काफी देर तक हड़कंप मचा रहा।
राज्य मंत्री मंडी परिसर में दोपहर पहुंचे। उनके साथ अधिकारियों की टीम भी थी। उन्होंने सबसे पहले एसएफसी के क्रय केंद्र की ओर रुख किया और किसानों से बात की। सेंटर इंचार्ज राजेंद्र पचौरी से भी खरीद के बारे में जानकारी हासिल की। एसएफसी के जिला प्रबंधक ओमपाल मलिक से भुगतान और बारदाने के बारे में पूछा। मंत्री ने सेंटर के रजिस्टर पर अपनी रिपोर्ट में लिखा कि सेंटर से गेहूं उठान का काम धीमा है। इसके लिए जिला प्रबंधक वरिष्ठ अधिकारियों से वार्ता कर स्थिति में सुधार कराएं। बैंक में किसानों का अब तक करीब 21 लाख का भुगतान नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की।
बाद में उन्होंने आरएफसी के सेंटर पर किसानों से बातचीत की। सेंटर पर मिले किसान निरंजन शर्मा और देवेश ने सहसवान के एक व्यक्ति की भूमिका पर सवाल उठाते हुए शिकायत की। उन्होंने डिप्टी आरएमओ को मौके पर ही निर्देशित किया कि वह आरोपी का पता लगाएं।

गेहूं खरीद सुचारु ढंग से की जा रही है। निरीक्षण के दौरान मंत्री जी को भी संतुष्टि मिली। आगे भी किसानों को कोई दिक्कत नहीं होने देंगे। उठान के बारे में अफसरों को रिपोर्ट भेजी जा रही है।
राजेंद्र पचौरी, सेंटर इंचार्ज, एसएफसी

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

अक्षय कुमार की फिल्म की बिक्री में करोड़ों की सेटिंग, देखिए एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

हिंदी सिनेमा में कभी अंडरवर्ल्ड के इशारों पर फिल्मों के सौदे होते थे। जिस किसी डिस्ट्रीब्यूटर के लिए भाई का फोन आता, प्रोड्यूसर को झक मारकर ये फिल्म उसे ही देनी होती। अब हिंदी सिनेमा में कॉरपोरेट कल्चर हावी है।

18 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree