फीडिंग में 15 से 20 फीसदी तक खामियां

Badaun Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

अनूप गुप्ता
विज्ञापन

बदायूं। शासन ने नए राशनकार्ड जारी करने को भले हरी झंडी दे दी हो लेकिन गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन करने वाले (एपीएल) राशनकार्डों की फीडिंग में जिस तरह से बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई है, उससे नए राशनकार्डों को जल्द जारी करने की राह में एक बड़ा रोड़ा खड़ा हो रहा है। एपीएल राशनकार्डों की फीडिंग में करीब 15 से 20 फीसदी तक खामियां सामने आई हैं। गलत फीडिंग को सही कराने की कवायद शुरू कर दी गई है। इसे जल्द पूरा कराने की एक बड़ी चुनौती प्रशासन के सामने खड़ी है।
वर्ष 2005 में जारी हुए राशनकार्ड की समयसीमा तो पांच वर्ष के लिए थी। इस लिहाज से ये सभी कार्ड वर्ष 2010 में अवैध हो चुके हैं लेकिन इन्हें अभी तक खींचा जा रहा है। हालांकि नए राशनकार्डों को जारी करने की तैयारी काफी समय से चल रही है। निजी संस्थाओं को ठेके देकर बीपीएल और अंत्योदय के साथ ही एपीएल राशनकार्डों की फीडिंग का काम पूरा करा लिया गया था। चिंताजनक यह रहा कि जिन संस्थाओं ने फीडिंग का काम किया, उन्होंने इस काम को गंभीरता से नहीं लिया, जिसका नतीजा यह रहा कि एपीएल कार्डों की फीडिंग में बड़े पैमाने पर खामियां सामने आई हैं। यह स्थिति तब सामने आई, जब पूर्ति विभाग ने फीडिंग का सत्यापन कोटेदारों से कराया। विभागीय सूत्र बताते हैं कि एपीएल राशनकार्डों की फीडिंग में 15 से 20 फीसदी तक त्रुटियां हैं। अब प्रशासन के सामने एक बड़ी चुनौती यह है कि अगर उसे जल्द नए राशनकार्ड जारी करने हैं तो उसे शीघ्र ही फीडिंग की खामियों को पूरा करना होगा।
पहला और आखिरी पेज होगा लेमीनेटेड
नए राशनकार्डों को मुद्रित कराने के लिए जिला स्तर पर तीन लाख रुपये का रिवाल्ंिवग फंड उपलब्ध है। कार्ड का पहला और आखिरी पेज लेमीनेटेड होगा। नए राशनकार्ड जून वर्ष 2015 तक के लिए वैध होंगे।

सात दिनों के भीतर जारी होगा नया कार्ड
प्रमुख सचिव बलविंदर कुमार से ये साफ निर्देश हैं कि चाहे शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण। दोनों ही क्षेत्र में पुराने राशन कार्ड जमा कराने तथा नया राशन कार्ड जारी करने में सात दिनों से अधिक समय नहीं लगना चाहिए। राशनकार्ड बदलते समय किसी उपभोक्ता का उस माह का राशन लैप्स न हो।

राशनकार्डों का सत्यापन कराया जा रहा है। उसी से फीडिंग में खामियां भी उजागर हो रही है। सत्यापन पूरा कराने और फीडिंग सही हो जाने से बाद नए राशनकार्डों को जारी करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
नीरज सिंह, जिला पूर्ति अधिकारी
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us