लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   ›   सुरक्षा गार्ड न सीसीटीवी कैमरे, रामभरोसे है बैंकों की सुरक्षा

सुरक्षा गार्ड न सीसीटीवी कैमरे, रामभरोसे है बैंकों की सुरक्षा

Badaun Updated Wed, 23 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। जिले की बैंकों में हो रहीं चोरी, धोखाधड़ी और लूटपाट की तमाम वारदातों के बाद भी बैंकों के अफसर नहीं चेते हैं। नतीजतन अधिकांश बैंकों के एटीएम केबिन में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं। इसका लाभ यहां सक्रिय एटीएम कार्ड बदलकर रकम निकालने वाला गिरोह और लुटेरे उठा रहे हैं। यहां तक कि बीती 13 अप्रैल को थाना मुजरिया के गांव कौल्हाई स्थित सर्वयूपी ग्रामीण बैंक में दिनदहाड़े हुई 2.86 लाख रुपये की लूटपाट की घटना के बाद भी बैंक अफसरों की नींद नहीं टूटी है। इसी चूक का फायदा उठाकर बदमाशों ने सोमवार की रात एटीएम मशीन से पांच लाख 30 हजार रुपये पर हाथ साफ कर दिया।

जिले में एसबीआई, पीएनबी, बीओबी, सर्वयूपी ग्रामीण बैंकों और निजी बैंकों को मिलाकर लगभग 156 शाखाएं हैं। निजी बैंक के अधिकारी बैंक और एटीएम केबिन की सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड तैनात किए हैं साथ ही वहां सीसीटीवी कैमरे भी लगे हैं लेकिन बात सरकारी बैंकों की हो तो यहां अधिकांश बैंकों के एटीएम केबिन में सीसीटीवी कैमरों का अभाव है। ऐसे में यहां सक्रिय गिरोह के सदस्य बैंक ग्राहकों का एटीएम कार्ड बदलकर उनकी लाखों रुपये की रकम निकाल लेते हैं। पुलिस इस गिरोह को पकड़ने के लिए हाथपांव मारती रहती है लेकिन कैमरे खराब होने की वजह से घटना का पर्दाफाश नहीं हो पाता।

बैठक में भी दिया था सुझाव
कौल्हाई बैंक लूटकांड के बाद एसपी रतन श्रीवास्तव ने जिले की सभी बैंकों के प्रबंधकों की बैठक लेकर उन्हें एटीएम कक्ष और बैंक परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाने का सुझाव दिया था। ताकि वारदात के बाद बदमाशों की शिनाख्त कर उनकी गिरफ्तारी में आसानी रहे। बैठक हुए एक महीने से ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन बैंकों में सीसीटीवी कैमरे नहीं हैं।
मेमोरी कार्ड से पुलिस को उम्मीद
एटीएम मशीन में लगा मेमोरी कार्ड पुलिस ने कब्जे में लिया है। इस कार्ड में मशीन में लगे सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग सुरक्षित होने की उम्मीद है। इसके लिए बुधवार को बैंक के इंजीनियर आकर पुलिस को दिखाएंगे। यदि बदमाशों ने कैमरे को क्षति नहीं पहुंचाई होगी तो घटना का पर्दाफाश करने में पुलिस को आसानी होगी।
बदमाशों की तलाश में लगीं तीन टीमें
एसपी रतन श्रीवास्तव ने इस घटना का पर्दाफाश करने केलिए पुलिस की तीन टीमें लगाई हैं। इनमें दो टीमें उझानी कोतवाली की हैं, जबकि एक टीम थाना कादरचौक पुलिस की है।
मुख्यालय भेजी गई है डिमांड
लीड बैंक मैनेजर डीके शर्मा ने बताया कि एसपी की बैठक के बाद सभी बैंकों के प्रबंधकों ने अपने-अपने मुख्यालय से सीसीटीवी कैमरों की मांग की है। इसके लिए डिमांड नोट भी भेजा गया है। आगे की कार्रवाई वहीं से होगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00