तीन हजार शिक्षकों के अभिलेखों का फिर सत्यापन

Badaun Updated Tue, 22 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

सुशील कुमार
विज्ञापन

बदायूं। जिले के प्राइमरी और उच्च प्राइमरी विद्यालयों में तैनात लगभग तीन हजार शिक्षकों और शिक्षामित्रों के अभिलेखों का दोबारा सत्यापन होगा। सत्यापन के दायरे में दस वर्ष से तैनात शिक्षक, शिक्षामित्र आएंगे। इन्होंने संपूर्णानंद विश्वविद्यालय और माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल से डिग्रियां ली हैं। यह निर्णय शासन ने हाईकोर्ट के आदेश पर लिया है। फर्जीवाड़े को लेकर सचिन राणा ने यह रिट दायर की थी। सत्यापन के लिए मंडल स्तरीय समिति का गठन किया गया है। इसमें मंडल में तैनात डायट प्राचार्य, एडी बेसिक और बीएसए शामिल हैं।
यह है आंकड़े
विदित हो कि जिले में तीन हजार प्राइमरी-उच्च प्राइमरी स्कूल हैं। इनमें लगभग साढ़े छह हजार शिक्षक और 3500 शिक्षामित्र तैनात हैं। पिछले दस सालों में तीन हजार शिक्षक तैनात हुए हैं। बेसिक शिक्षा विभाग के आंकड़ों के अनुसार 1250 शिक्षक ऐसे हैं जिन्होंने संपूर्णानंद विश्वविद्यालय और माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल से डिग्रियां ली हैं। शिक्षामित्रों की संख्या भी लगभग दो हजार बताई जा रही है, जो कि इनसे संबद्ध हैं।
फर्जीवाड़े को लेकर हो रहा सत्यापन
विभाग के अनुसार सचिन राणा ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। दोनों शिक्षण संस्थानों के नाम से डिग्रियां लेकर तमाम लोग शिक्षक बन गए हैं। जबकि उन्होंने कक्षाएं ली ही नहीं। सूत्र बताते हैं कि जिन अभ्यर्थियों का चयन डायट में विशिष्ट बीटीसी के लिए हुआ है उनमें से कई ने अपने अभिलेखों का सत्यापन स्वयं करवाया था। डायट ने सत्यापन की गोपनीयता नहीं बनाए रखी। इसमें बड़ा खेल हुआ था।
सर्वे के लिए तैयारी शुरु
चयनित कमेटी संबंधित जिलों में अधिकारियों को नामित करेगी। यह शिक्षकों, शिक्षामित्रों के चयन की फाइलें जांचेंगे। जिन्होंने दोनों शिक्षण संस्थाओं से डिग्रियां ली होंगी, उनका गोपनीय सत्यापन कराया जाएगा। सत्यापन कराने का जिम्मा इन्हीं अधिकारियों का होगा। बेसिक शिक्षा विभाग ने इसके लिए तैयारी शुरु कर दी है।

दोनों शिक्षण संस्थाओं से डिग्रियां लिए हुए शिक्षकों, शिक्षामित्रों के दोबारा सत्यापन के आदेश प्राप्त हो गए हैं। इसकी मंडल स्तर पर बैठक होगी। उसके बाद आगे की कार्रवाई करेंगे।-कृपाशंकर वर्मा, बीएसए
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us