जानलेवा हमले के मुकदमे के गवाहों को पुलिस ने उठाया

Badaun Updated Tue, 22 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

बदायूं। व्यापारी नेता मनोज कृष्ण गुप्ता पर बीती 19 मई को हुए जानलेवा हमले में कोतवाली पुलिस नामजद आरोपी की गिरफ्तारी तीसरे दिन सोमवार को भी नहीं कर सकी है। वहीं पुलिस ने सोमवार की सुबह इस मुकदमे के एक गवाह को मारपीट के एक पुराने मुकदमे के आधार पर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इस कार्यप्रणाली से व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त है। व्यापारियों ने एसपी को पूरा प्रकरण बताया, इस पर एसपी ने उन्हें निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन दिया है।
विज्ञापन

इससे पूर्व मालवीय आवास गृह पर हुई सभा में व्यापारी नेता ने कहा कि पुलिस ने अन्याय की पराकाष्ठा कर दी है। पुलिस नामजद की गिरफ्तारी करने के बजाए मुकदमे के गवाहों का उत्पीड़न करने लगी है। इसी क्रम में सोमवार को पुलिस ने गवाह हरिओम सागर को मारपीट के एक मामले में गिरफ्तार कर लिया। यहां तक कि डॉक्टरी मुआयना की रिपोर्ट के आधार पर अंगभंग की धाराओं में मुकदमा तरमीम कर दिया है। व्यापारी नेता ने कहा कि विधायक के गुर्गे गवाहों पर शपथपत्र देने का दबाव बना रहे हैं। वहीं नामजद फैसल खुलेआम घूम रहा है।
रंजीत वाल्मीकि ने कहा कि कबूलपुरा में पिछले कुछ दिनों से आपराधिक प्रवृति के कुछ नए चेहरे सामने आ गए हैं। ये लोग खुद को विधायक का आदमी बताते हुए असलहे लेकर घूमते हैं और आम आदमी से मारपीट करते हैं। कहा कि यदि पुलिस ही मुकदमे के गवाहों का उत्पीड़न करेगी तो जनता सुरक्षा किससे मांगेगी। बाद में व्यापारियों ने एसपी को भी पूरा प्रकरण बताया। इस मौके पर मनोज साहू, आलोक गुप्ता, अखिलेश साहू, संजीव वाल्मीकि, अनोखेलाल वाल्मीकि, विशाल शाक्य, सुनील कश्यप, वेदप्रकाश मौर्य, संजीव आदि मौजूद रहे।
मनोज कृष्ण गुप्ता पर हमला निंदनीय
बदायूं। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष कृष्ण अवतार और बीकेडी जिलाध्यक्ष राजेश सक्सेना ने बैठक कर मनोज कृष्ण गुप्ता पर हुई फायरिंग की निंदा की।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us