गुप्ता नर्सिंग होम के संचालकों को डीएम की नोटिस

Badaun Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। कन्या भ्रूण हत्या के मामले में जिला प्रशासन गंभीर हो गया है। स्वास्थ्य विभाग की जांच रिपोर्ट के आधार पर मिली कमियों का जवाब देने को गुप्ता मैटरनिटी एवं नर्सिंग होम के संचालकों को जिलाधिकारी ने नोटिस जारी किया है। इसमें उन्होंने छह बिंदुओं पर सात दिन के भीतर जवाब मांगा है। इसमें कहा गया है कि साक्ष्य के रूप में शिकायतकर्ता से मिली सीडी देखने पर प्रतीत होता है कि लिंग भ्रूण की जांच और हत्या की गई है। इसके तहत प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम का उल्लंघन हुआ है।
विदित हो कि बीते 28 अप्रैल को इसी नर्सिंग होम के संचालकों के खिलाफ अधिवक्ता गजेंद्र प्रताप सिंह के प्रार्थना पत्र पर सीजेएम न्यायालय में मुकदमा (परिवाद) स्वीकार किया गया है। इस मामले को अमर उजाला ने छह मई के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित किया। इसके तीसरे दिन स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस निजी अस्पताल पर छापा मारकर अल्ट्रासाउंड आदि की जांच की थी। वही रिपोर्ट सीएमओ डॉ. सुखबीर सिंह ने जिलाधिकारी मयूर माहेश्वरी के समक्ष प्रस्तुत की थी। उसी आधार पर डीएम ने छह बिंदुओं पर अस्पताल संचालकों डॉ. सुरेश चंद्र गुप्ता/डॉ. सुनीती गुप्ता को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
ये रहे नोटिस के छह बिंदु
-17 मई की तिथि में पत्रांक संख्या 175 से जारी नोटिस में कहा गया है कि संयुक्त जांच टीम ने जब अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट से संबंधित अभिलेख मांगे तो पाया गया कि अल्ट्रासाउंड कराने आए लोगों का पूरा पता तथा फोन नंबर अंकित नहीं थे। जबकि अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार ऐसा करना आवश्यक है। अत: यह धारा पांच और छह का उल्लंघन है।
-अधिकांश मरीजों की रेफरल स्लिप उपलब्ध नहीं थी। आपने खुद अल्ट्रासाउंड कराने के लिए फार्म एफ तथा एएनसी रजिस्टर पर लिखा था।
-फार्म एफ पर अल्ट्रासाउंड जांच कराने की वजह नहीं दी गई थी। जांच रिपोर्ट के परिणाम में कोई बीमारी या सामान्य जैसी कोई आख्या नहीं लिखी गई थी।
-आपके पास विगत दो वर्षों का आवश्यक रिकार्ड उपलब्ध नहीं था जबकि अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार रिकार्ड दो वर्ष तक सुरक्षित रखना आपकी जिम्मेदारी है।
-आपके अल्ट्रासाउंड केंद्र पर पीसीपीएनडीटी अधिनियम उपलब्ध नहीं था।
- सीडी देखने पर प्रतीत होता है कि आपने भ्रूण लिंग की जांच की व डॉ. सुनीती गुप्ता ने लिंग चयन एवं भ्रूण हत्या के लिए प्रेरित किया। डॉ. सुरेश चंद्र गुप्ता तथा डॉ. सुनीती गुप्ता लिंग चयन एवं कन्या भ्रूण हत्या में संलिप्त हैं।
-उपरोक्त पाई गई कमियों से स्पष्ट है कि आपने प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम (पीसीपीएनडीटी) 1994 के नियमों में दिए गए प्रावधानों का सीधा उल्लंघन किया है। अत: सात दिन के अंदर कारण स्पष्ट करें कि ऐसा क्यों किया गया? क्यों न आपके विरुद्ध नियमानुसार कानूनी कार्यवाही की जाए?

Spotlight

Related Videos

अविश्वास प्रस्ताव से बीजेपी को कितना खतरा? समझिए, आंकड़ों के जरिए

जब सत्ता, सियासत और साम्राज्य के मायने सिकुड़कर चंद मुद्दों में सिमट जाएं तो समझ जाइए देश में चुनाव होने वाले हैं और चुनावों से पहले थोड़ा ड्रामा होना लाजमी होता है।

19 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen