विज्ञापन

अब एसडीओ और जेई से की हाथापाई

Badaun Updated Wed, 16 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
उझानी(बदायूं)। इलाके में बिजली कटौती को लेकर गुस्से में दिख रहे उपभोक्ताओं ने एक बार फिर उपकेंद्र को निशाना बनाया। इस बार जो लोग पहुंचे, उनमें अधिकतर गांव निजामपुर के हैं। ग्रामीणों ने एसडीओ, दोनों जेई समेत मौजूद कर्मियों को घेर कर उनके साथ हाथापाई की। इससे कैंपस में भगदड़ मच गई।
विज्ञापन
यह मामला मंगलवार दोपहर का है। बिजली उपकेंद्र पर पहुंचे निजामपुर समेत आसपास गांव के लोगों ने देखते ही एसडीओ अनुराग वर्मा, जेई मोहम्मद शफीक अहमद और अजय प्रताप सिंह समेत पांच कर्मियों को घेर लिया। बकौल एसडीओ-ग्रामीण कुछ बताने की बजाय गालीगलौज करने लगे। जबकि हंगामा कर रहे ग्रामीणों का कहना है कि बिजली कर्मियों ने कटौती से निजात दिलाने की बजाय घर लौट जाने को धमकाया। बताते हैं कि एसडीओ पुलिस बुलाने के लिए सेलफोन जेब से निकाला तो उनका मोबाइल छीन लिया गया। बिजली कर्मियों और ग्रामीण उपभोक्ताओं में नोकझोंक भी हुई।
बिजली कर्मियों ने बताया कि ग्रामीणों ने एसडीओ, दोनों जेई समेत पांच कर्मचारियों से हाथापाई की। यह देख आवासों से कर्मचारियों की परिवार की महिलाएं भी बाहर निकल आईं। बाद में पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस को देख कई ग्रामीण भाग निकले। तीन लोगों को पुलिस ने दबोच लिया। कोतवाल एके सिंह ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। मालूम हो कि बिजली उपकेंद्र पर ग्रामीणों के गुस्से से जुड़ी यह चौथी घटना है। सोमवार को दूदेनगर, बिहार हरचंद, बरसुआ और इससे पहले रिसौली और बसोमा के ग्रामीण हंगामा कर चुके हैं।

रिसौली और दूदेनगर वालों पर रिपोर्ट दर्ज
कोतवाली पुलिस ने पिछले दिनों बिजली उपकेंद्र पर हंगामा और तोड़फोड़ के साथ सरकारी कामकाज में बाधा डालने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों को एक-दो दिन में सूचीबद्ध कर लिया जाएगा। बाद में उनकी गिरफ्तारी कर ली जाएगी। यह लोग रिसौली और दूदेनगर के हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

बारिश और बर्फबारी ने हिमाचल में मचाई तबाही, करीब 350 करोड़ के नुकसान का अनुमान

पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में पिछले तीन दिन तक लगातार हुई बारिश और बर्फबारी से करीब साढ़े तीन सौ करोड़ रुपये का नुकसान है।

26 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree