विज्ञापन

अब सरकारी अस्पतालों में बंद हुआ गरीबों का मुफ्त इलाज

Badaun Updated Wed, 16 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। अब सरकारी अस्पतालों में भी गरीबों का इलाज बंद हो गया है। इसका प्रमुख कारण बनाए गए स्मार्ट कार्ड की अप्रैल माह में मियाद का पूरा होना है। नियमत: मई माह में स्मार्ट कार्ड बनाने का कार्य पूरा होना था, लेकिन नई कंपनी यह कार्य जून माह में शुरु करेगी। इस तरह इन दो माह में गरीबों को मुफ्त इलाज नहीं मिल सकेगा।
विज्ञापन
विदित हो कि वर्ष 2010 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना का शुभारंभ हुआ था। इस योजना के तहत बीपीएल कार्ड धारकों को 30 हजार रुपये तक का मुफ्त इलाज दिए जाने की योजना है। इस रकम से लाभार्थी प्राइवेट अस्पताल में भी अपना इलाज करा सकते हैं। जिले के दस प्राइवेट अस्पतालों का चयन किया गया था, लेकिन इनमें से अधिकांश ने मार्च माह में इलाज देना बंद कर दिया था। कारण था कि अस्पताल प्रशासन को खर्च रकम नहीं दी गई थी। पिछले साल लगभग 1100 मरीजों को योजना का लाभ मिल पाया। जबकि कार्ड धारकों की संख्या लगभग 60 हजार थी। इस बार स्मार्ट कार्ड बनाने का जिम्मा आईसीआईसीआई लोंबार्र्ड को मिला है। यह जून माह में शिविर लगाकर कार्ड बनाएगी।
अब सरकारी अस्पतालों में इन्हें इलाज नहीं मिल रहा। गंभीर बीमारियों में लाभार्थी स्मार्ट कार्ड के माध्यम से अपना इलाज कराते थे, लेकिन अब उन्हें रकम कर्ज पर लेकर इलाज कराना पड़ रहा है। हर दिन जिला अस्पताल में पांच-दस मरीज ऐसे आते हैं, लेकिन कार्ड की मियाद पूरी होने के कारण उनका इलाज नहीं किया जाता।
सर्वे में कर्मचारियों को छूट रहे पसीने
योजना के लाभार्थियों के नाम की सीडी हर नगरपालिका और नगर पंचायतों को मुहैया कराई गई है। उसकी हार्ड कॉपी भी दी गई है, लेकिन उसमें लाभार्थी का नाम और मोहल्ले का ही नाम है। उसकी बल्दियत नहीं दी गई है। इसके कारण पात्रों को ढूंढने में कर्मचारियों के पसीने छूट रहे हैं। सूत्रों का कहना है उसावां क्षेत्र के जिन लोगों की सीडी नगर पंचायत को उपलब्ध कराई गई, लेकिन उस सीडी की हार्डकॉपी निकाली तो उसमें उझानी क्षेत्र के लाभार्थियों के नाम मिले। हालांकि सीडी शासन को भेजी गई है। इसी तरह कई अन्य समस्याएं भी खड़ी हो गई हैं।

लाभार्थियों के लिए सर्वे शुरु हो गया है। एक जून से स्मार्ट कार्ड बनने लगेंगे। जिन कर्मचारियों को सर्वे में परेशानी आ रही है वह लिखित में अवगत कराएं।-डॉ. सुखबीर सिंह, सीएमओ

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

11 दिसंबर से 8 जनवरी तक संसद का शीतकालीन सत्र, जानिए किन मुद्दों पर होगी चर्चा

संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से शुरू होकर आठ जनवरी तक चलेगा। इसकी जानकरी देते हुए संसदीय मामलों के राज्य मंत्री विजय गोयल ने बताया कि इस दौरान 20 कार्यदिवस मिलेंगे। इन बीस दिनों में सरकार कई महत्वपूर्ण बिलों पर चर्चा करेगी।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree