सड़क और फुटपाथ बने वर्कशॉप

Badaun Updated Mon, 14 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। इन दिनों प्रशासन शहर का अतिक्रमण हटाने के लिए तैयारी कर रहा है और कई जगह पर पीडब्ल्यूडी ने अपनी सड़कों पर चिन्हीकरण का काम भी शुरू किया है। लेकिन शहर में स्थाई या अस्थाई अतिक्रमण ही नहीं सड़क व फुटपाथ पर चल रहे वर्कशॉप भी राहगीरों का रास्ता रोक रहे हैं।
अब तक अतिक्रमण हटाने के नाम पर कुछ हुआ भी, वो नाकाफी रहा। अब हालत यह है कि बिना रजिस्ट्रेशन के ही प्रमुख सड़कों पर तमाम वर्कशॉप खुल गए हैं। इन हालातों से राहगीरों को रूबरू होना पड़ रहा है। इस समस्या से अधिकारी वाकिफ नहीं हैं या होना नहीं चाहते। शहर के पुरानी चुंगी, सहबाजपुर, दातागंज तिराहा, अंबेडकर पार्क के पास, गांधी ग्राउंड, मंडी के पास, लालपुल, नवादा सहित कई मुख्य मार्गों पर ये वर्कशॉप संचालक कब्जा जमाए हुए हैं, जिन पर शिकंजा कसने को प्रशासन कोई ठोस रणनीति तैयार नहीं कर रहा है।

लोगों को हो रही दिक्कत, प्रशासन बेखबर
सड़कों के किनारे खुल वर्कशॉप में ट्रक सहित अन्य बड़े वाहनों के पहिए खुले पड़े रहते हैं। पास ही ट्रक पर स्प्रे हो रही है। पहिए पर घन बज रहे हैं तो उधर स्प्रे की रंग सड़क से निकलने वालों की सांस के साथ शरीर के अंदर जा रहा है। ऐसे में लोग भले ही परेशान हो लेकिन प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा।

वेल्ंिडग की चमक से आंखों पर पड़ रहा असर
सड़क किनारे चल रहे वर्कशॉप में काम के दौरान बेल्ंिडग की तेज चमक निकती है, जिससे उधर से गुजरने वाले राहगीरों खासकर बच्चों की आंखों पर इसका खराब असर पड़ रहा है। मोटरसाइकिल व स्कूटर वर्कशॉप से तो साइलेंसर से गंदा धुंआ छोड़ा जाता है, जो काफी हानिकारक होता है। ये वर्कशॉप स्वास्थ्य के लिए भी खतरा बने हुए हैं।

फुटपाथ पर जगह नहीं, तो चलें कहां
कैलाश टाकीज के पास, या शहबाजपुर से टिकटगंज जाने वाला मार्ग हो, नई सराय और पुरानी चुंगी सब जगहों पर सड़क पर वर्कशॉप खुल गए हैं। अतिक्रमण कई बार हटाया गया लेकिन वही स्थिति रही। पिछले अभियानों में अबतक राहगीरों को कोई राहत नहीं मिली है। पटरियां वर्कशॉप और अन्य अतिक्रमण के कारणों से घिर चुकी हैं। कहीं ट्रैक्टर ट्रालियां बन रहीं हैं तो कहीं अलमारियां, स्कूटर, कार, यहां तक ट्रैक्टर और ट्रकों की भी मरम्मत हो रही है।
क्या कहते हैं लोग
हमेशा जान पर बनी रहती
सड़क किनारे वाहनों की मरम्मत का चलने से वहां से गुजरने वाले राहगीरों की जान पर जोखिम बना रहता है। लोहे के भारी हथौड़ा चलने या वेल्ंिडग के दौरान किसी का चपेट में आना घातक हो सकता है।
स्वतंत्र प्रकाश, मधुबन कॉलोनी
नहीं बचता निकलने का रास्ता
घर-दुकानों के आगे अतिक्रमण से सड़कों का वैसे भी बुरा हाल है। उस पर फुटपाथ पर वर्कशॉप चलने से निकलने का रास्ता बिलकुल ही खत्म हो जाता है।
विनोद गुप्ता, रेलवे क्रासिंग
वातावरण हो रहा दूषित
वाहनों की मरम्मत के दौरान निकलने वाले हानिकारक धुआं लोगों के स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है। इसके बावजूद प्रशासन कोई सुधि नहीं ले रहा।
अजय पाल एडवोकेट, पुलिस लाइंस चौराहा
प्रशासन को उठाने चाहिए कदम
प्रशासन ने फुटपाथ और सड़कों पर चल रहे वर्कशॉप पर शिकंजा कसने के लिए कोई सख्त कदम नहीं उठाए। उसे चाहिए इसे लेकर कोई ठोस रणनीति तैयार की जाए।
मनवीर सिंह, प्रोफेसर कॉलोनी

पक्षपात कर हटाया जा रहा अतिक्रमण, ज्ञापन दिया
बदायूं। मनोज कृष्ण गुप्ता के नेतृत्व में कई लोगों ने मालवीय आवास पर बैठक की। श्री गुप्ता ने कहा कि बदायूं का प्रशासन एक समुदाय का पक्ष ले रहा है। जबकि दूसरे समुदाय को चोट पहुंचा रहा है। शनिवार की रात हटाया गया अतिक्रमण इसका उदाहरण है। कहा कि प्रशासन किसी नेता के इशारे पर काम कर रहा है। व्यापारी नेता ज्वाला प्रसाद गुप्ता ने कहा कि अतिक्रमण हटाने के लिए लगाए गए लाल निशान में पक्षपात हुआ है। यह अन्याय बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम प्रशासन को सौंपा। इस मौके पर डॉ. जयप्रकाश गुप्ता, उमेश चंद्र शर्मा, डॉ. मनोज सक्सेना, अखिलेश साहू, हरिओम सागर, ओम गुप्ता, राजीव रस्तोगी, लखन वर्मा, अमित राजपूत, बंटी, सुशील मौर्य, अनिल मौर्य आदि रहे।

Spotlight

Related Videos

फिर मुंबई में धधकी आग, जूते की फैक्ट्री जलकर खाक

मुंबई में आग लगने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब गोरेगांव में बाबूलाल कम्पाउंड के कामा इंडस्ट्री में आग लग गई।

22 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen