यदु शुगर मिल में भीषण आग से बड़ी क्षति

Badaun Updated Thu, 10 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बिसौली (बदायूं)। बिसौली के रानेट मोड़ पर स्थित यदु शुगर मिल में बुधवार की दोपहर अचानक आग लग गई। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। इससे मिल में रखी बीस हजार टन बैगास (गन्ने की खोई), लाखों की कीमत की बगाश बेल्ट समेत कई मशीनें जल गईं। इसके अलावा आग की चपेट में आकर मिल के गेस्ट हाउस के दो कमरों में रखा सामान भी राख के ढेर में बदल गया। आग की सूचना पर जिला मुख्यालय समेत सहसवान, चंदौसी, और बिल्सी की दमकल गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गईं। लगभग चार घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका लेकिन तब तक मिल का काफी सामान जल गया था। मिल के अधिकारियों का कहना है कि आग से लगभग दो करोड़ की क्षति हुई है। तहसील प्रशासन की टीम ने घटनास्थल का मुआयना किया है।
विज्ञापन

पूर्व मंत्री व पूर्व सांसद डीपी यादव की बिसौली के रानेट तिराहे पर शुगर मिल है। बुधवार को दोपहर करीब दो बजे अचानक मिल में में रखे बैगास के ढेर में अचानक आग लग गई। इससे पहले कि मिल का स्टाफ कुछ समझ पाता, आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मिल में आसमान तक उठती धुएं और आग की लपटों को देखकर आसपास के ग्रामीण बड़ी संख्या में इकट्ठे हो गए। आग की तपिश दूर-दूर तक महसूस की जा रही थी। हादसे के लगभग डेढ़ घंटे बाद दमकल विभाग की गाड़ी पहुंच गई लेकिन एक गाड़ी से आग पर काबू नहीं पाया जा सका। लगभग दो घंटे बाद पांच गाड़ियां आग बुझाने में जुट गईं। दमकल विभाग के मुताबिक शाम पांच बजे आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया लेकिन तब तक मिल की मशीनरी समेत गेस्ट हाउस के कमरा नंबर 10 और 11 में रखा सामान भी आग की भेंट चढ़ गया।
मिल के अधिशासी अध्यक्ष एचएस गंगवार ने बताया कि आग से लगभग दो करोड़ की क्षति हुई है। आग लगने का कारण पता नहीं चल सका है।
----------------
... फायर स्टेशन नहीं, पहुंचने में भी हुई देरी
दमकल कर्मियों की देरी ने दुर्घटना को बनाया बड़ा हादसा
बिसौली में चार साल बाद भी नहीं खुल सका फायर स्टेशन
सिटी रिपोर्टर
बदायूं। यदु शुगर मिल में लगी आग इतना विकराल रूप धारण नहीं कर पाती कि वहां इतना बड़ा नुकसान होता। इस हादसे की सबसे बड़ी वजह वहां फायर स्टेशन का अभाव बना। चार साल से विभाग बिसौली में फायर स्टेशन खोलने की योजना बना रहा है लेकिन अभी तक इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका। नतीजतन बुधवार को मिल में आग लगने के डेढ़ घंटे बाद दमकल गाड़ी वहां पहुंची और इसके बाद अन्य गाड़ियां बुलाई गईं।
दमकल विभाग ने चार साल पूर्व बिसौली में फायर स्टेशन बनाने की योजना बनाई थी। इसके लिए बदायूं-चंदौसी हाइवे पर स्थित गांव हतसा के पास ग्राम समाज की लगभग दो एकड़ जमीन का अधिग्रहण हुआ है। इसके बावजूद इस योजना को आगे नहीं बढ़ाया जा सका है। वर्तमान में न तो विभाग को बिल्डिंग बनवाने की रकम मिली है और न ही दमकल गाड़ी।
यदि समय रहते बिसौली में फायर स्टेशन खुल जाता तो बुधवार को मिल में लगी भीषण आग पर समय रहते काबू पा लिया जाता। इसके अलावा अग्निकांड की सूचना केलगभग डेढ़ घंटे बाद दमकल गाड़ियां घटनास्थल पर पहुंचना शुरू हुईं। इतनी देर में आग ने मिल की मशीनरी समेत 20 टन बैगास और मशीनें जल गईं।

वायरलेस से टूटी कर्मचारियों की नींद
मिल के कर्मचारियों ने कई बार दमकल विभाग के नंबर पर कॉल करके घटना की जानकारी देने का प्रयास किया लेकिन फोन नहीं उठा। बाद में कोतवाली पुलिस ने वायरलेस से दमकल विभाग को मामले की जानकारी दी। इसके बाद टीम घटनास्थल को रवाना हुई।
ये पहुंचे घटनास्थल पर--------
मिल में आग लगने की सूचना पर एसडीएम रजनीश राय, तहसीलदार एचएस यादव, नायब तहसीलदार योगेंद्र शर्मा समेत तहसील प्रशासन का स्टाफ पहुंच गया। इसके अलावा कोतवाली पुलिस ने भी आग बुझाने में दमकल कर्मियों की मदद की।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us