दांव पर लगी हजारों क्ंिवटल गेहूं की सुरक्षा

Badaun Updated Thu, 10 May 2012 12:00 PM IST
अनूप गुप्ता
बदायूं। जिले में हजारों क्ंिवटल सरकारी गेहूं की सुरक्षा दांव पर लगी हुई है। स्टेट वेयर हाउसिंग कॉरपोरेशन (एसडब्लूसी) के मंडी को छोड़कर अन्य गोदाम करीब फुल हो चुके हैं। जबकि करीब छह हजार मीट्रिक टन (एमटी) गेहूं क्रय केंद्रों पर पड़ा हुआ है। उधर, जिला मुख्यालय की मंडी समिति के एसडब्लूसी गोदाम पर ही जगह बाकी होने के कारण यहां ट्रकों की लंबी लाइन लगी हुई है।
प्रशासन की इस साल भी गेहूं भंडारण रणनीति फेल हो रही है। हालत यह है कि अभी भले ही गेहूं खरीद का लंबा वक्त बाकी हो लेकिन सरकारी गोदामों में अभी से ही फुल होने लगे हैं। ऐसे में प्रशासन के सामने गेहूं रखने का एक बड़ा संकट खड़ा नजर आ रहा है। हालत यह है कि एसडब्लूसी उझानी गोदाम की भंडारण क्षमता 8600 एमटी है और यहां 7720 एमटी गेहूं रखा जा चुका है। गेहूं रखने के लिए यहां बेहद कम जगह बाकी रही है। यही हालत मंडी वजीरगंज के गोदाम की है। यहां प्रशासन के पा गेहूं रखने के लिए 5000 एमटी की जगह है और यहां 3672 एमटी गेहूं का भंडारण भी हो चुका है। पड़उल्ला एसडब्लूसी गोदाम में भी उसकी क्षमता के आधार पर काफी गेहूं रखा जा चुका है। इस गोदाम की क्षमता करीब 9000 एमटी है और यहां अब तक करीब 7227 एमटी गेहूं का स्टोर हो चुका है। इससे यह साफ है कि ये गोदाम पूरी तरह से भरने की कगार पर पहुंचने वाले हैं। इस समय सिर्फ बदायूं मंडी समिति के एसडब्लूसी गोदाम पर जगह बाकी है। यहां 13000 एमटी गेहूं रखने को जगह है, जबकि करीब 3672 एमटी गेहूं रखा जा चुका है। यहां अभी काफी जगह होने से ट्रकों की लंबी लाइनें लगी हुई हैं। उधर करीब छह हजार एमटी गेहूं क्रय केंद्रों पर रखा है। हर रोज इसकी मात्रा बढ़ ही रही है। भंडारण के उठते संकट को अगर जल्द दूर न किया गया तो हजारों क्ंिवटल गेहूं की हिफाजत मुश्किल हो जाएगी।

प्रशासन ने एफसीआई को सुझाए प्राइवेट गोदाम
चूंकि गेहूं भंडारण की जिम्मेदारी भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) पर होती है, इसलिए प्रशासन ने भंडारण की उठती दिक्कत के मद्देनजर मंडी यार्ड के साथ ही कुछ प्राइवेट गोदाम चयनित किए हैं। इसमें 6000 एमटी के बिसौली और 5000 एमटी के उझानी में प्राइवेट गोदाम और मंडी यार्ड को शामिल किया गया है। हालांकि इन पर आखिरी मंजूरी एफसीआई के ही क्षेत्रीय कार्यालय को लगानी है।

सरकारी एजेंसियों पर रखे गेहूं की स्थिति
-----------------------------
एजेंसी गेहूं की मात्रा (एमटी में)
विपणन शाखा 1263
पीसीएफ 2399
एसएफसी 729
यूपीएसएस 1008
कर्मचारी कल्याण 276
नेफेड 2760
यूपीएग्रो 97
---------------------------
कुल 5801
---------------------------

भंडारण के लिए एफसीआई को लिखा जा चुका है। प्राइवेट गोदाम मिल जाने पर स्टोरेज की समस्या काफी हद तक कम हो जाएगी।
रवि गौतम, डिप्टी आरएमओ

Spotlight

Related Videos

इस मानसून सत्र में इन विधेयकों को पास कराने पर होगा सरकार का जोर

इस मानसून सत्र में कौन-कौन से अहम विधेयक पास होने के लिए टेबल पर हैं, देखिए इस रिपोर्ट में।

18 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen