एक्साइज ड्यूटी हटाने पर सर्राफा ने बताया अपनी जीत

Badaun Updated Tue, 08 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। केंद्र सरकार ने सर्राफा व्यवसाइयों पर बजट पारित करते समय एक्साइज ड्यूटी कर लगा दिया था। इसको लेकर देशभर के सर्राफा व्यवसायी सड़कों पर आ गए। लगभग 20 दिन तक चले इस आंदोलन के बाद केंद्र सरकार ने यह कर वापस लेने का आश्वासन दिया तब जाकर यह मामला शांत हुआ। अब केंद्र सरकार यह यह अधिभार हटा लिया है। इसको लेकर सर्राफा कारोबारियों में खुशी की लहर है। कहा कि यह उनकी जीत हुई है। जानते हैं क्या कहते हैं सर्राफा व्यवसायी---
कारोबारियों की मिली है राहत

एक्साइज ड्यूटी लगाने की जरुरत ही नहीं थी। सरकार ने कारोबारियों पर बेवजह वजन डाला था। इससे करोबार पर भी काफी असर पड़ा है। अब यह टैक्स हटाने से कारोबारियों को राहत मिली है।- सूर्य प्रकाश वैश्य, अध्यक्ष,सर्राफा एसोसिएशन

राजस्व बढ़ाने का था यह तरीका

राजस्व बढ़ाने का केंद्र सरकार का यह नया तरीका था। इससे व्यापारियों की स्वतंत्रता का हनन हो रहा था। यह तरीका सरकार का गलत था। एक्साइज ड्यूटी हटाने से कारोबारियों की जीत हुई है। -अरविंद वैश्य

मिली है आजादी

कर हटाने से कारोबारियों को दोबारा आजादी मिली है। यह लड़ाई केवल सर्राफों की ही नहीं थी बल्कि आम जनता की भी थी। जनता पर अधिक बोझ पड़ता। सरकार का यह फैसला अच्छा रहा। -शरद रस्तोगी, सर्राफा व्यवसायी

काले कानून से मिली राहत
सरकार की घोषणा से काले कानून से अब राहत मिली है। सरकार को टैक्स लगाने जैसा कदम नहीं उठाना चाहिए था। फिलहाल इसे हटा कर सरकार ने अच्छा काम किया। यह सभी कारोबारियों की जीत है। -आशू कटारिया,सर्राफा व्यवसायी

Spotlight

Related Videos

मालदीव संकट की ये है असली वजह

मालदीव के हालात सुधरते नजर नहीं आ रहे हैं। मलादीव इस वक्त सियासी संकट से जूझ रहा है। राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन अब्दुल गयूम ने 15 दिनों के आपातकाल की घोषणा की है।

23 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen