बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बारिश होगी, तो भागेगी पुलिस

Badaun Updated Mon, 07 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
अभिषेक सक्सेना
विज्ञापन

बदायूं। जनता की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार पुलिसवालों को अपनी सुरक्षा करना ही मुश्किल दिख रहा है। कई चौकियाें की हालत देखकर इसका आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है, अधिकांश के भवन खस्ताहाल हैं। ऐसे में आने वाले दिनों में जब बारिश होगी तब तो पुलिसकर्मी चौकी के बजाय बाहर ही भागते नजर आएंगे। यहां तक कि कुछ चौकियां खंडहरों में तब्दील हो चुकी हैं। खस्ताहाल चौकियों के भवन गिरने और बैठने की समुचित व्यवस्था न होने के चलते यहां तैनात दरोगा और सिपाही भी यहां बैठने से कतराते हैं। अधिकारियों का कहना है कि चौकियों की जीर्णोद्धार के लिए फिलहाल प्रस्ताव भेजा गया है लेकिन धन नहीं मिला।
ये हैं खस्ताहाल पुलिस चौकियां
सोथा चौकी
- अंग्रेजी हुकूमत में बनी यह चौकी काफी ऊंचाई पर बनी है। ताकि मिश्रित आबादी वाले इस इलाके की निगेहबानी हो सके। लेकिन वर्तमान में यह चौकी खंडहर में तब्दील हो चुकी है। ऐसे में यहां तैनात स्टाफ केवल इलाकेमें गश्त करता है।

नई सराय पुलिस चौकी
शहर के मध्य में बनी इस चौकी में वैसे तो सब ठीकठाक है लेकिन बरसात के दिनों में यहां की छत टपकने लगती है। ऐसे में दिन तो दिन रात में भी यहां सिर छुपाने की कोई व्यवस्था नहीं है। वहीं पुलिसकर्मियों को छत गिरने से होने वाले हादसे की आशंका भी सताती रहती है।
बाबूराम मार्केट चौकी में लटका ताला
स्टेशन रोड स्थित बाबूराम मार्केट पुलिस चौकी में अव्यवस्थाओं के चलते कई साल पहले ताला लटक गया था। इस चौकी का जीर्णोद्धार तो नहीं हो सका लेकिन महकमे के अधिकारियों ने संवेदनशील स्थान रोडवेज बस स्टैंड पर अस्थाई रूप से यह चौकी बना दी।
जवाहरपुरी चौकी का भवन भी जर्जर
बरेली मार्ग पर स्थित जवाहरपुरी पुलिस चौकी कई दशक पुरानी है। इसका भवन जर्जर हालत में पहुंच चुका है। जैसे-तैसे पुलिसकर्मी यहां ठहरे हुए हैं। चूंकि चौकी सड़क से नीची है ऐसे में बारिश के दिनों में यहां जलभराव की स्थिति बन जाती है। इनके अलावा मालवीय गंज पुलिस चौकी, सरकारीगंज चौकी भी बदहाल हैं। हालांकि पिछले दिनों मीराजी चौकी का निर्माण करा दिया गया था। इस जमीन को बंधनमुक्त कराने में तत्कालीन कोतवाल यशवीर सिंह का काफी सहयोग रहा था।

थानों की वार्षिक मरम्मत का धन आया है। इससे थानों की मरम्मत का काम शुरू करवाने की योजना है। चौकियों के जीर्णोद्धार के लिए प्रस्ताव भेजा गया है।
केके सिंह चौहान, आरआई

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us