विज्ञापन

गंभीर विकलांग बच्चों को घर पर मिलेगी शिक्षा

Badaun Updated Sun, 06 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। गंभीर रुप से विकलांग बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए अब होम बेस्ड एजूकेशन शुरु होने जा रही है। केयर गिवर इन बच्चों के घर पर पढ़ाने जाएंगे। सर्व शिक्षा अभियान की समेकित शिक्षा के तहत नए बजट में यह प्रस्ताव भेजा गया है।
विज्ञापन

मालूम हो कि जिले में विकलांग बच्चों के लिए प्री इंटीग्रेशन कैंप चलाए जा रहे हैं। यहां बच्चों को दस माह का प्रशिक्षण देकर उन्हें शिक्षा की मुख्य धारा में लाया जाता है। इनका प्रवेश प्राइमरी और उच्च प्राइमरी स्कूल में कराया जाता है। समेकित शिक्षा के जिला समन्वयक जितेंद्र सिंह ने बताया कि गंभीर विकलांग बच्चे शिक्षा की मुख्य धारा में नहीं आ पाते। मानसिक मंदित, सेरीबल, पाल्सी दोनों पैरों से गंभीर रुप से अक्षम बच्चों को केयर गिवर के द्वारा घर-घर जाकर शैक्षिक सपोर्ट प्रदान की जाएगी।
शासन को भेजे प्रस्ताव में कहा है कि इन बच्चों को पढ़ाने वाले केयर गिवर की तैनाती होती। 20 का चयन किया जाएगा। हर केयर गिवर को 4500 रुपये मानदेय के रुप में दिया जाएगा। इनको टीचिंग किट उपलब्ध कराई जाएगी। इसमें स्लेट, चाक, डस्टर, कापियां, पेन या पेंसिल, फ्लैश कार्डस चित्र, मॉडल आदि शामिल हैं। श्री सिंह ने बताया कि प्रस्ताव पास होने के बाद यह योजना शुरु की जा सकेगी। यूपी को छोड़कर अन्य प्रदेशों में यह योजना संचालित है। इसका बच्चों को लाभ मिलेगा। सबसे पहले ऐसे बच्चों का चयन किया जाएगा। आठ बच्चों को एक केयर गिवर पढ़ाएगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us