विज्ञापन

अभी सपना बना आय-जाति प्रमाणपत्र का मिलना

Badaun Updated Sun, 06 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। चार साल का लंबा वक्त गुजर जाने के बाजवूद ग्रामीणों के लिए गांव में ही आय-जाति प्रमाणपत्र पाना अभी तक मुमकिन नहीं हो सका है। गांव स्तर पर प्रस्तावित जनसुविधा केंद्रों को बनाने की दिशा में अभी तक कोई कदम नहीं उठाए गए हैं। इस व्यवस्था के तैयार न होने से ग्रामीण मायूस हैं।
विज्ञापन
गांव में ही जाति-आय प्रमाणपत्र के साथ ही खसरा-खतौनी व शिकायत दर्ज कराने के लिए करीब चार साल पहले जनसुविधा केंद्र खोलने की तैयारी सरकार ने की थी। यह केंद्र आधा दर्जन गांव पर खोलने का प्रस्ताव था, ताकि ग्रामीणों को तहसील व जिला मुख्यालय तक न दौड़ लगानी पड़ी। बताते हैं कि इन जनसुविधा केंद्रों को खोलने के लिए दिल्ली की एक संस्था को यह काम शुरू कराने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, लेकिन बाद में इस संस्था के हाथ पीछे कर लेने के बाद बंगलुरू की एक संस्था को काम दिया गया है। जिलेभर में करीब पौने तीन सौ जनसुविधा केंद्र खोले जाने थे। मगर, अभी तक इन जनसुविधा केंद्र को खोलने की दिशा में कोई तैयारी नहीं की गई है। ऐसे में लोगों को गांव में ही खसरा-खतौनी और जाति व आय प्रमाणपत्र मिलना मुमकिन नहीं हो पा रहा है।

जनसुविधा केंद्र बनाने के लिए शासन के निर्देश का इंतजार किया जा रहा है। उसके बाद ही इस दिशा में कोई तैयारी की जाएगी।
दिव्य कुमार गिरि, एडीएम प्रशासन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us