बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

नियम 45 का, पर परीक्षक 70 तक कॉपियां चेक कर रहे

Badaun Updated Fri, 04 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
बदायूं। परीक्षक अधिक रुपये कमाने के चक्कर में निर्धारित मानक से अधिक कॉपियां चेक कर रहे हैं। माध्यमिक शिक्षा विभाग के अफसर इस पर कोई रोक नहीं लगा रहे हैं। परीक्षकों की कॉपियां जांचने की जल्दी में विद्यार्थियों का भविष्य खराब हो सकता है। यही कारण है कि इस बार कॉपियां 60 प्रतिशत तक चेक हो चुकी हैं।
विज्ञापन

जिले में इस बार हाईस्कूल-इंटर की लगभग पांच लाख कॉपियां चेक होने के लिए आई हैं। हाईस्कूल की एक कॉपी की जांच के लिए चार रुपये और इंटर के लिए साढ़े पांच रुपये मिलते हैं। हर दिन एक परीक्षक 45 से अधिक कॉपियां चेक नहीं कर सकते, लेकिन कोठार से 70 तक कॉपियां परीक्षकों को दी जा रही है। सूत्र बताते हैं कि जल्दबाजी में कॉपियां जांची जा रही हैं। इससे विद्यार्थियों के अंक गड़बड़ हो सकते हैं। माध्यमिक शिक्षा परिषद ने कहा था कि सुबह दस से शाम पांच बजे तक एक परीक्षक सही ढंग से 45 कॉपियां ही जांच सकता है। यदि संख्या बढ़ती है तो समझो उसमें गड़बड़ी की संभावना है।

बताया जाता है कि तेजी से मूल्यांकन कार्य जारी है। इसी कारण 60 फीसदी मूल्यांकन कार्य पूर्ण हो गया है। डीआईओएस सुशीला अग्रवाल का कहना है कि इस मामले की जांच कराई जाएगी।
कृषि और वाणिज्य विषय की कॉपियां हुई चेक
इस्लामियां इंटर कालेज में हाईस्कूल कृषि और कॉमर्स विषय की कॉपियां चेक हो गई हैं। यहां 60 फीसदी कार्य सात दिन में पूरा हो गया। एसके इंटर कालेज में भी इतने ही फीसदी मूल्यांकन का कार्य हो गया। राजकीय इंटर कालेज में एक लाख से अधिक कॉपियां चेक हो गईं। हालांकि कुछ विषय के परीक्षकों की संख्या कम होने के कारण उनकी कॉपियां कम चेक हुई हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us