विज्ञापन

शाम की कटौती से व्यापारियों में रोष

Badaun Updated Thu, 03 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। शहर की बिजली आपूर्ति का शेड्यूल बदले जाने से नागरिकों और व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त है। बुधवार को राष्ट्रवादी उद्योग व्यापार मंडल के कार्यकर्ताओं ने प्रदेशाध्यक्ष मनोज कृष्ण गुप्ता के नेतृत्व में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौंपकर सायंकालीन कटौती बंद कराने की मांग की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
इससे पूर्व हुई व्यापारियों की बैठक में प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि शाम की बिजली कटौती शहर के लोगों के साथ अन्याय है। कहा कि चुनाव से पहले प्रदेश सरकार ने वायदा किया था कि बदायूं को अच्छी आपूर्ति दी जाएगी लेकिन सरकार वायदा खिलाफी पर उतर आई है। चेतावनी दी कि यदि समय रहते शेड्यूल में परिवर्तन नहीं किया गया तो व्यापारी प्रदेश सरकार के खिलाफ आंदोलन करेंगे। इस मौकेपर मनमोहन वर्मा, अरविंद गुप्ता, केवी गुप्ता, दीपेंद्र गुप्ता, विवेक शर्मा, गोपाल रस्तोगी, दिनेश वैश्य, दीनदयाल साहू, राजेंद्र गु्प्ता, चंद्रप्रकाश साहू और विष्णुदयाल आदि मौजूद रहे। उधर, बिजली का शेड्यूल बदलने पर भाजपा प्रबुद्ध प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष सुरेश चंद्र शर्मा ने रोष जताया है। कहा है कि शाम छह से रात दस बजे तक और सुबह तीन बजे से शाम पांच बजे तक बिजली कटाने से छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी। व्यापार भी प्रभावित होगा।

चार घंटे की मिल रही आपूर्ति
रुदायन। कस्बा की बिजली आपूर्ति का शेड्यूल ध्वस्त हो चुका है। दिन और रात को मिलाकर मात्र चार घंटे की सप्लाई मिल रही है। नागरिकों का आरोप है कि इस्लामनगर उपकेंद्र केकर्मचारी जानबूझकर कस्बा का फीडर बंद करते हैं। नागरिकों ने डीएम से आपूर्ति दुरुस्त कराए जाने की मांग की है। मांग करने वालों में प्रेमपाल सिंह यादव, मोहनलाल, अवनेश, हरिओम और मोहनलाल जौहरी आदि शामिल हैं।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

भारत में शिक्षा का हाल बदहाल, ASER की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

भारत में शिक्षा का अधिकार सबको है लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में शिक्षा तो दी जा रही है लेकिन बच्चे शिक्षित नहीं हो पा रहे। इसका खुलासा खुद ASER की सर्वे रिपोर्ट ने किया है। 

16 जनवरी 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree