अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के 484 आवेदन निरस्त

Badaun Updated Wed, 02 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

बदायूं। एक सप्ताह पूर्व अंतर्जनपदीय स्थानांतरण पर लगी रोक हट गई है। बेसिक शिक्षा परिषद ने दोबारा इससे जुड़ी फाइलें मांगी हैं,लेकिन 484 शिक्षकों की फाइलों पर ब्रेक लग गया है। क्योंकि इन ऑनलाइन आवेदन निरस्त कर दिए गए। शिक्षकों का कहना है कि सॉफ्टवेयर में आई गड़बड़ी के कारण उनका पूरा बायोडाटा ही चेंज हो गया। इससे शिक्षकों में अफरातफरी मची हुई है। यह शिक्षक आवेदन सही कराने को विभाग के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन राहत नहीं मिल रही है।
विज्ञापन

मालूम हो कि बसपा शासन में विधानसभा चुनाव के दौरान अंतर्जनपदीय स्थानांतरण खोले गए थे। ताकि दूसरे जिलों में काम कर रहे शिक्षक अपने गृह जनपद में जा सकें। महिला शिक्षकों को इसमें प्राथमिकता दी गई थी। उन्हें केवल अपने पति की नौकरी का प्रूफ देना था, लेकिन नई सरकार बनते ही स्थानांतरण पर रोक लग गई थी। नई तबादला नीति के तहत अब स्थानांतरण होंगे। बेसिक शिक्षा विभाग के कर्मचारी फाइलें तैयार करने में जुट गए हैं। बीएसए डॉ. ओपी राय का कहना है कि शिक्षकों ने आवेदन सही नहीं किए, इसलिए वह निरस्त हो गए।
क्या कहते हैं शिक्षक-
कंप्यूटर आवेदन बता रहा अस्वीकृत

प्राथमिक स्कूल भोजीपुर में तैनात शिक्षक पवन कुमार राय का कहना है कि आजमगढ़ स्थानांतरण को आवेदन किया था, लेकिन कंप्यूटर अस्वीकृत बता रहा है। इससे परेशानी बढ़ गई है।

दूसरे का नाम है आवेदन पर

प्राथमिक स्कूल खितौरा प्रथम में तैनात शिक्षक अरविंद दीक्षित का कहना है कि आवेदन निरस्त हो गया है, लेकिन इसका कारण कोई नहीं बता रहा। आवेदन में मेरे नाम की जगह संजीव शर्मा लिखा गया है।

महिला शिक्षक का दिख रहा बायोडाटा

प्राथमिक स्कूल मुरारी सिधारपुर में तैनात शिक्षक अजय कुमार सिंह का कहना है कि मेरे आवेदन में महिला शिक्षक का नाम दर्शाया गया है। इसको लेकर परेशानी बढ़ती जा रही है।

दोबारा आवेदन के लिए कहा जा रहा

प्राथमिक स्कूल मोहम्मदपुर उधा में तैनात शिक्षक दिनेश चौहान का कहना है कि ऑनलाइन आवेदन अस्वीकृत है। दोबारा आवेदन के लिए कहा जा रहा है, लेकिन परेशानी फिर भी दूर नहीं होगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us