अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के 484 आवेदन निरस्त

Badaun Updated Wed, 02 May 2012 12:00 PM IST
बदायूं। एक सप्ताह पूर्व अंतर्जनपदीय स्थानांतरण पर लगी रोक हट गई है। बेसिक शिक्षा परिषद ने दोबारा इससे जुड़ी फाइलें मांगी हैं,लेकिन 484 शिक्षकों की फाइलों पर ब्रेक लग गया है। क्योंकि इन ऑनलाइन आवेदन निरस्त कर दिए गए। शिक्षकों का कहना है कि सॉफ्टवेयर में आई गड़बड़ी के कारण उनका पूरा बायोडाटा ही चेंज हो गया। इससे शिक्षकों में अफरातफरी मची हुई है। यह शिक्षक आवेदन सही कराने को विभाग के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन राहत नहीं मिल रही है।
मालूम हो कि बसपा शासन में विधानसभा चुनाव के दौरान अंतर्जनपदीय स्थानांतरण खोले गए थे। ताकि दूसरे जिलों में काम कर रहे शिक्षक अपने गृह जनपद में जा सकें। महिला शिक्षकों को इसमें प्राथमिकता दी गई थी। उन्हें केवल अपने पति की नौकरी का प्रूफ देना था, लेकिन नई सरकार बनते ही स्थानांतरण पर रोक लग गई थी। नई तबादला नीति के तहत अब स्थानांतरण होंगे। बेसिक शिक्षा विभाग के कर्मचारी फाइलें तैयार करने में जुट गए हैं। बीएसए डॉ. ओपी राय का कहना है कि शिक्षकों ने आवेदन सही नहीं किए, इसलिए वह निरस्त हो गए।
क्या कहते हैं शिक्षक-
कंप्यूटर आवेदन बता रहा अस्वीकृत

प्राथमिक स्कूल भोजीपुर में तैनात शिक्षक पवन कुमार राय का कहना है कि आजमगढ़ स्थानांतरण को आवेदन किया था, लेकिन कंप्यूटर अस्वीकृत बता रहा है। इससे परेशानी बढ़ गई है।

दूसरे का नाम है आवेदन पर

प्राथमिक स्कूल खितौरा प्रथम में तैनात शिक्षक अरविंद दीक्षित का कहना है कि आवेदन निरस्त हो गया है, लेकिन इसका कारण कोई नहीं बता रहा। आवेदन में मेरे नाम की जगह संजीव शर्मा लिखा गया है।

महिला शिक्षक का दिख रहा बायोडाटा

प्राथमिक स्कूल मुरारी सिधारपुर में तैनात शिक्षक अजय कुमार सिंह का कहना है कि मेरे आवेदन में महिला शिक्षक का नाम दर्शाया गया है। इसको लेकर परेशानी बढ़ती जा रही है।

दोबारा आवेदन के लिए कहा जा रहा

प्राथमिक स्कूल मोहम्मदपुर उधा में तैनात शिक्षक दिनेश चौहान का कहना है कि ऑनलाइन आवेदन अस्वीकृत है। दोबारा आवेदन के लिए कहा जा रहा है, लेकिन परेशानी फिर भी दूर नहीं होगी।

Recommended

Spotlight

Related Videos

...जब श्मशान में खड़े मोदी को अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था फोन

अटल बिहारी वाजपेयी अब दुनिया में नहीं रहे। पीएम मोदी अक्सर अपने और अटल बिहारी वाजपेयी के रिश्तों की छल्कियां अपने भाषणों में दिखाते हैं।

17 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree