विज्ञापन

मंडी के गल्ला व्यापारियों ने बंद किया कारोबार

Badaun Updated Mon, 01 Dec 2014 05:31 AM IST
विज्ञापन
उझानी (बदायूं)। व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर वाणिज्य कर विभाग बरेली की टीम की छापामार कार्रवाई के विरोध के रविवार को मंडी समिति परिसर में गल्ला व्यापार बंद रहा। प्रतिष्ठान बंद करके आढ़ती गेट पर धरना देने बैठ गए। विभाग के डिप्टी कमिश्नर रामाशंकर कठेरिया के खिलाफ प्रदर्शन भी किया गया।
विज्ञापन
मंडी समिति परिसर में कामबंद हड़ताल के पहले दिन ही सन्नाटा पसर गया। ग्रामीण क्षेत्र से ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में अनाज लाद कर पहुंचे किसानों को बैरंग लौटना पड़ गया। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल और ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में पूर्वाह्न से ही मंडी गेट पर धरना देने को बैठे गए गल्ला व्यापारियों ने मंडी कर्मियों के वाहन को भी अंदर नहीं घुसने दिया। गल्ला व्यापारियों और मंडी कर्मियों के बीच नोकझोंक भी हुई।
बता दें कि शुक्रवार को मंडी परिसर स्थित एक प्रतिष्ठान पर डिप्टी कमिश्नर रामाशंकर कठेरिया के नेतृत्व में वाणिज्य कर विभाग की टीम ने छापा मारा था। डिप्टी कमिश्नर ने गाली गलौज और पर्चियां फाड़ देने का आरोप लगाते हुए कोतवाली में तहरीर दी थी। उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल के प्रदेश उपाध्यक्ष राजकुमार बंसल ने बताया कि कोतवाली से तहरीर वापस होने तक हड़ताल चलेगी।
प्रदर्शनकारी गल्ला व्यापारियों में सुरेंद्र कुमार गुप्ता, महेंद्र गुप्ता, सर्वेश गुप्ता, कृष्ण कुमार वार्ष्णेय, प्रदीप कुमार गुप्ता, सीताराम वार्ष्णेय, धनसुख अग्रवाल, मनमोहन शर्मा, संजय गुप्ता और अजय चौधरी आदि मौजूद थे।
पहले दिन लगा एक लाख का चूना
उझानी। मंडी परिसर में गल्ला व्यापारियों की हड़ताल की वजह से कृषि उत्पादन मंडी समिति प्रशासन को टैक्स के रूप में करीब एक लाख रुपये का नुकसान हो गया। मंडी सचिव राकेश अवस्थी ने बताया कि हड़ताल खत्म कराने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने विभाग के अफसरों को भी अवगत करा दिया है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने कहा- अयोध्या में बने राम मंदिर

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैयूरुल हसन रिजवी ने कहा है कि अयोध्या के विवादित स्थान पर राम मंदिर बनना चाहिए ताकि देश में हिन्दू-मुस्लिम सुकून से रह सकें।

12 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree