'पॉर्नोग्राफ़ी', जानिए पूरी सच्चाई

टीम डिजिटल/अमर उजाला Updated Sat, 05 Mar 2016 06:07 PM IST
Pros and Cons of Pornography
ख़बर सुनें
पॉर्नोग्राफी के बारे में यूं तो कई रिसर्च आईं हैं लेकिन क्या आप पॉर्नोग्राफी के बारे में ये बातें नहीं जानना चाहेंगे।
पॉर्नोग्राफ़ी उन तस्वीरों, फिल्मों एवं विडियो को कहते हैं जो की उत्तेजना को बढ़ाने के लिए बनाया जाती हैं।

सॉफ्ट पॉर्न में कुछ अपनी कल्पना के लिए छोड़ दिया जाता है। इसमें एक पुरुष एवं महिला को चुम्बन लेते हुए या किसी महिला को एक उत्तेजक या सेक्सी अंतर्वस्त्र में दर्शाया जा सकता है। हार्ड कोर पॉर्न सेक्स को बहुत खुले तरीके से दर्शाता है उदाहरण के लिए, एक निर्वस्‍त्र महिला या संभोग करते हुए पुरुष एवं महिला की तस्वीर या फिल्म।

पॉर्न देखते समय आप अक्सर ऐसी चीजें देखते हैं जो ज़्यादातर लोग अपने वास्तविक जीवन में अनुभव नहीं करते हैं। पॉर्न में कुछ भी संभव है जैसे कई लोगों का एक साथ सेक्स में शामिल होना, अनजान लोगों के साथ सेक्स करना या आखों पर पट्टी बाँध कर सेक्स करना।

पर याद रखें की पॉर्न फिल्मों में सेक्स वास्तविक जीवन के सेक्स के जैसा नहीं होता है। यह एक मनगढ़त या फिल्मी कहानी की तरह होता है जिसकी आप कल्पना कर सकते हैं। वास्तविक जीवन में पॉर्न फिल्मों जैसे सेक्स की अपेक्षा न करें।

इतना ही नहीं, सामान्यतः पॉर्न फिल्मों  के अभिनेताओं की मांसपेशियों एवं लिंग असल में वास्तविक जीवन में लड़कों एवं पुरुषों से बड़े होते हैं। और अभिनेत्रियाँ छरहरी या पतली होती हैं और उनके स्तन वास्तविक जीवन में लड़कियों एवं महिलाओं के स्तनों से बड़े होते हैं - और उन्होंने स्तनों को बढ़ाने के लिए अक्सर कॉस्मेटिक सर्जरी या शल्यक्रिया कराई होती है। और क्या वास्तव में आपकी गर्लफ्रेन्ड भी इतनी ज़ोर से आहें भरती हैं - या इतनी आसानी से चरमआनन्द प्राप्त कर लेती हैं?

याद रखें, ज़्यादातर पॉर्न पुरुषों के लिए बनाए गए होते हैं और उन्हीं की कल्पनाओं को दर्शाते हैं। और पार्न में कोई कण्डोम नहीं पहनता।
आगे पढ़ें

पॉर्न के पक्ष एवं विपक्ष

RELATED

Spotlight

Related Videos

VIDEO: यहां कूढ़े के ढेर पर लोगों ने किया योग, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

विश्व में योग दिवस पर देश भर से अलग अलग तस्वीरें सामने आई हैं। एक तरफ आगरा में सुंदरता की मिसाल ताजमहल के साए में लोग योग करते दिखाई दिए तो वहीं दूसरी ओर हल्दवानी में लोगों ने कूढ़े के ढेर पर योग किया है।

21 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen