विज्ञापन
विज्ञापन

कहीं आपको नपुंसक न बना दें ये लक्षण, पहचानें

टीम डिजिटल/ अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 13 Apr 2016 08:36 AM IST
Symptoms that might be responsible for impotence
ख़बर सुनें

खास बातें

  • बदलती दीवनशैली में बढ़ रहे हैं नपुंसकता के मामले।
  • ऐसी स्थिति में नहीं बन पाता वीर्य, सेक्शुअल जिंदगी पर पड़ता है असर।
आजकल की बदलती जीवनशैली के बीच नपुंसकता ऐसी समस्या है जिसके मामले लगातार बढ़ रहे हैं। दरअसल, ये बढ़ोत्तरी सही समय पर उपचार ना कराने के कारण भी है। महिलाएं ही नहीं पुरुष भी झिझक व हिचकिचाहट की वजह से न तो अपनी यह समस्या किसी से कहते हैं, न ही सही चिकित्सक के पास जाकर इसका इलाज कराते हैं।
विज्ञापन
क्या है एजुस्पर्मिया
'एजुस्पर्मिया' नपुंसकता की एक ऐसी स्थिति है जिसमें पुरुष के शरीर में उचित मात्रा में वीर्य नहीं बन पाता है। विज्ञान ने अब इतनी तरक्की कर ली है कि इस समस्या का उपचार हो सके।

एजुस्पर्मिया होने के कारण
कई शोधों में ये साबित हो चुका है कि पुरुषों में यह समस्या 12 से 20 प्रतिशत तक बढ़ी है। वीर्य कम होने की समस्या के पीछे कई कारण हो सकते हैं-
- फोलीक्यूलर स्टूमुलेटिंग हार्मोन का कम होना
- अनुवांशिक कारण
- कई बार कीमोथेरेपी या रेडियोथेरेपी भी एक कारण है
- गलत जीवनशैली, खानपान में गड़बड़ी, तनाव
विज्ञापन
आगे पढ़ें

क्या इलाज भी है संभव

विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Kama Sutra

घर के अलावा ऑफिस में इन जगहों पर करें सेक्स

क्या आपको पता है कि घर के ऑफिस में भी लोग सेक्स फेंटेसी करते हैं। आइए जानें, ऑफिस में किन जगहों पर सेक्स को एंज्वॉय किया जा सकता है।

21 जून 2018

विज्ञापन

आरबीआई की पीएमसी ग्राहकों को और राहत, खाते से रुपये निकालने की सीमा 25 से बढ़ाकर 40 हजार की

त्योहारी सीजन को देखते हुए आरबीआई ने पीएमसी बैंक पर लगी पाबंदियों के बीच ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। पीएमसी ग्राहक अब खाते से 25 हजार के बजाय 40 हजार रुपये तक निकाल सकेंगे।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree