नए कंडोम से सेक्स का मजा होगा दोगुना

अमर उजाला, दिल्ली Updated Sat, 23 Nov 2013 08:02 AM IST
विज्ञापन
Graphene used to create more pleasurable condoms

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
अब कंडोम पहले से ज्यादा मजबूत और पतले होंगे। कंडोम के निर्माण में अब ग्राफेन (graphene) नामक पदार्थ का प्रयोग किया जाएगा। इस सुपर मटेरियल की खोज करने वालों को नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया था।
विज्ञापन

पढ़ें: पैसे के लिए कंडोम को ना कहतीं सेक्स वर्कर
खोजकर्ताओं का माना है कि ग्राफेन जो कि मोटे कार्बन का सिंगल एटम है के प्रयोग से कंडोम पहले से ज्यादा पतले, मजबूत और सुरक्षित होंगे।
पढ़ें: आखिर क्यों देखती हैं महिलाएं पोर्न?

टेलीग्राफ ऑनलाइन के मुताबिक, ग्राफेन की खोज 2004 में मेनचेस्टर यूनिवर्सिटी सर एंड्रू जिम और सर कॉस्ट्या नोवोसेलोव ने किया था। मौजूदा समय में इसका प्रयोग इलेक्ट्रॉनिक्स में किया जा रहा है। खास तौर पर सौर ऊर्जा के नए पैनल्स के लिए।

देखिए, चलती बाइक पर सेक्स करती किम कार्दशियन

यूनिवर्सिटी मेनचेस्टर के मटेरियल्स वैज्ञानिक डॉ अरविंद विजय राघवन को विश्वास है कि इसे कंडोम में प्रयोग किया जा सकता है और इसके प्रयोग से सेक्स का आनंद और भी बढ़ जाएगा।

देखिए, जब लड़कों के साथ न्यूड हो गईं लड़कियां

इस कंडोम को इस तरह से बनाया जाएगा जिससे सेक्स के दौरान नैचुरल ऑर्गेज्म का अहसास होगा और कंडोम के चलन को बढ़ावा मिलेगा।

पढ़ें: औरतों के इन बॉडीपार्ट से उन्हें यूं करें उत्तेजित

ग्राफेन को लचीले लैटेक्स के साथ मिलाया जाएगा जिससे नया मटेरियल से बना कंडोम ज्यादा पतला, मजबूत, लचीला, सुरक्षित और सबसे बड़ी बात कि ज्यादा आनंददायक होगा।

उम्मीद की जा रही है कि इसके प्रयोग से एड्स और अनचाहे गर्भ में कमी आएगी।

पढ़ें: इनसे हो सकती हैं सेक्स पॉवर में कमी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us