आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

कहां है मलाला का हमलावर?

बीबीसी हिंदी/ऐन्ड्र्यू नॉर्थ/काबुल

Updated Sat, 20 Oct 2012 08:33 PM IST
where is mlala attacker
पाकिस्तान और अफगानिस्तान की सरकारों पर मलाला युसुफजई के हमलावरों को गिरफ्तार करने का काफी दबाव है। गौरतलब है कि मलाला पर तालेबान के हमले को एक हफ्ता हो चला है। पाकिस्तान की सरकार के मुताबिक तालिबान के जिस गुट ने हमले के लिए जिम्मेदारी ली है, उसके नेता मुल्ला फजलुल्लाह अफगान सीमा के निकट पहाड़ी इलाकों में छिपे हैं। पाकिस्तान ने अफगानिस्तान से मांग की है कि फजलुल्लाह को उसे सौंप दिया जाए।
पाकिस्तानी सेनाएं कई महीनों से फजलुल्लाह के लड़ाकों की तलाश में अफगान सीमा पर स्थित गांवों पर गोलाबारी कर रही हैं। पाकिस्तान फजलुल्लाह के लड़ाकों पर सीमा-पार हमले करने का आरोप लगाता है। हमले की एक घटना में फजलुल्लाह के चरपंथियों ने 17 पाकिस्तानी पुलिसकर्मियों का सर धड़ से अलग कर दिया था।

ऐसा संदेह है कि स्वात में तालिबान धड़े के नेता फजलुल्लाह के खिलाफ पाकिस्तान कार्रवाई करने से इसलिए कतरा रहा है क्योंकि इसका असर अफगानिस्तान से उसके संबंधों पड़ेगा। ऐसी भी खबरें हैं कि अफगानिस्तान फजलुल्लाह को सौदेबाजी के लिए इस्तेमाल कर रहा है।

आधिकारिक तौर पर अफगानिस्तान इंकार करता है कि मुल्ला रेडियो के नाम से मशहूर ये व्यक्ति उसकी जमीन पर मौजूद नहीं है। लेकिन निजी तौर पर कुछ और ही बात सामने आती है। एक अफगान सुरक्षा सूत्र ने बताया कि फजलुल्लाह के नूरिस्तान और कुनार प्रांत के कमदेश या छपरा डारा जिलों में होने की रिपोर्टे हैं। लेकिन सूत्र ने इस बात से इंकार किया कि अफगान गुप्तचर एजेंसी एनडीएस तालिबान नेता की मदद कर रही है।

फजलुल्लाह के खिलाफ कार्रवाई
ये पूछे जाने पर कि क्या फजलुल्लाह के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है, सूत्र ने कहा कि फजलुल्लाह अफगान सुरक्षाकर्मियों पर हमला नहीं करते हैं और अगर वो कुनार औऱ नूरिस्तान के पहा़ड़ों में छिपे हैं तो वो छिपने की सबसे अच्छी जगह है। ये इलाके दशकों से चरमपंथियों के छिपने की जगह रहे हैं। अस्सी के दशक में सोवियत सेनाओं से युद्ध करने वाले अफगान मुजाहिद्दीन भी छिपने के लिए इन्हीं इलाकों का रुख करते थे।

सालों कोशिशें करने के बाद भी ये दो प्रांत अमरीकी और अफगान सेनाओं के प्रभाव से बाहर रहे हैं। गौरतलब है कि दो सालों में नेटो सेनाएं अफगानिस्तान को छोड़ देंगी। दर्जनों सैनिकों के मारे जाने के बाद सो साल पहले अमरीका ने इस इलाके में अपनी छावनियों को बंद कर दिया था।

नेटो महासचिव के साथ एक प्रेसवार्ता से जब अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करजाई से मुल्ला फजलुल्लाह को लेकर पाकिस्तानी दावों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कोई सीधा जवाब नहीं दिया। हामिद करजाई ने उम्मीद जताई कि क्लिक करें मलाला की घटना से पाकिस्तान को समझाने में मदद मिलेगी कि किसी के खिलाफ चरमपंथ का इस्तेमाल करना सही नहीं है।

राष्ट्रपति के एक सहयोगी ने कहा कि अफगानिस्तान के पास फजलुल्लाह का इस्तेमाल करने की ताकत नहीं है और अमरीका को फजलुल्लाह के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए क्योंकि उनके पास तकनीक है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

अपने ही बच्चे के गले में डाल दिया फंदा, रिकॉर्ड किया वीडियो और...

  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

29 साल बड़े एक्टर से शादी कर चर्चा में आई थी ये एक्ट्रेस, सौतेली बेटी से है 4 साल छोटी

  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

लिपस्टिक या लिप बाम नहीं, ये खास MASK अब होठों को बनाएगा खूबसूरत

  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

कभी नौकरानी का काम करती थी ये हीरोइन, 1500 से ज्यादा फिल्में कर बनाया था गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड

  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

15 लड़कों ने एक गधे के साथ कर डाला ऐसा काम, खुद की जान पर आ गई आफत

  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

Most Read

धमकाना बंद करे चीन, सेना की ताकत से नहीं बदलेगा डोकलाम का सच: जापान

japan support india on doklam, says no one should try to change status quo by force
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

इस महिला के पहनावे पर क्यों बरपा है हंगामा

Afghani people divides in two parts due to Wear garment of this woman
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

एक बार फिर भारत के खिलाफ नेपाल का फूटा गुस्सा

Nepal once again anger against India
  • गुरुवार, 17 अगस्त 2017
  • +

स्पेन: बार्सिलोना अटैक में 13 की मौत, ISIS ने ली जिम्मेदारी, 5 संदिग्ध ढेर

Barcelona police confirm a massive crash from a van has occurred in the city center, several injured
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

सड़क पर थीं लाशें, डर से चीख रहे थे लोग, बार्सिलोना हमले की दर्दनाक कहानी

Eyewitnesses narrate Barcelona gory scenes, says Bodies strewn on street, people running screaming
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

रहस्य से उठा परदा, इंसान नहीं, सबसे पहले जानवर आए थे पृथ्वी पर

Scientists have solved the mystery of how the first animals appeared on Earth
  • गुरुवार, 17 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!