आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

मिस्र:शुरुआती रुझान में मोर्सी को बढ़त!

Avanish Pathak

Avanish Pathak

Updated Sun, 16 Dec 2012 02:59 PM IST
morsi is leading in early trend in egypt
मिस्र में संविधान के विवादित मसौदे को लेकर हुए पहले जनमत संग्रह की गिनती शुरू हो गई है।
मतदान के शुरुआती रुझानों को देखते हुए माना जा रहा है कि जनमत संग्रह में राष्ट्रपति मुहम्मद मोर्सी के मसौदे के प्रति लोगों का रुझान अधिक है।

मुस्लिम ब्रदरहुड के अधिकारियों ने न्यूज़ एजेंसी रॉयटर से कहा कि मिस्र की जनता ने पहले चरण में राष्ट्रपति के मसौदे के पक्ष में अधिक वोट किए हैं।

हालांकि, औपचारिक तौर पर अभी परिणाम घोषित नहीं किए गए हैं और इसके लिए अगले चरण के जनमत संग्रह का इंतज़ार है।

मिस्र में अगला जनमत संग्रह शनिवार को होना है। पहले चरण में मिस्र की जनता ने मतदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया।

हालांकि जनमत संग्रह के दौरान कई जगहों से हिंसक घटनाओं की खबरें भी आई और लोगों ने मतदान की समय सीमा बढ़ाए जाने पर नाराजगी भी जाहिर की।

उधर, विपक्षी दल वफ्ड पार्टी के एक नेता का कहना था कि जनमत संग्रह के दौरान काहिरा में उनके मुख्यालय पर पेट्रोल बम से हमला किया गया।

दो चरण में मतदान
संविधान के इस मसौदे पर रविवार को राजधानी काहिरा, एलेक्जेंड्रिया और आठ अन्य प्रांतों में वोटिंग हुई।

देश के बाकी हिस्सों में एक हफ्ते बाद संविधान पर मतदान करेंगे।

इस जनमत संग्रह के लिए मतदान वाले क्षेत्रों में क़रीब ढाई लाख से ज्यादा सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे।

संविधान के मसौदे पर मतदान के लिए पांच करोड़ 10 लाख से ज़्यादा मतदाताओं का पंजीकरण किया गया है।

मतदान को दो हिस्सों में कराने की वजह ये रही कि कुछ जजों ने जनमत संग्रह का निरीक्षण करने इच्छा जताई थी।

मानवाधिकार समूहों ने आशंका जताई है कि पहले चरण के मतदान के नतीजों का असर दूसरे चरण के जनमत संग्रह पर पड़ सकता है।

समर्थन और विरोध
इस जनमत संग्रह में लोगों से पूछा गया है कि वो अगले साल होनेवाले चुनाव से पहले अनिवार्य संविधान के मूल ढांचे में बदलाव का समर्थन करते हैं या नहीं।

काहिरा में बीबीसी संवाददाता जॉन लेन का कहना है कि संविधान के विरोधियों का तर्क है कि ये इस्लामिक क़ानून लागू करने की ओर अत्यधिक झुका हुआ है।

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि उलझे सांविधानिक प्रावधानों पर जनमत संग्रह दरअसल मतदान से कहीं अधिक है। इससे मिस्र के भविष्य की दिशा तय होनी है कि उसे इस्लामिक राष्ट्र होना चाहिए या फिर धर्मनिरपेक्ष।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

दीपिका पादुकोण को मिला ये खास सम्मान

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

लेक्सस ने भारत में लॉन्च की एक साथ तीन कार

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

'अंगूरी भाभी' का आरोप, प्रोड्यूसर के पति ने की छेड़छाड़

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

आपके बिजनेस को नुकसान से बचाएगा यह उपाय, आजमाकर देखें

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

स्मार्टफोन से बेहतरीन फोटो खींचने के लिए जरूर पढ़ें ये टिप्स

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

Most Read

बांग्लादेश में आतंकवादियों के ठिकाने पर छापेमारी

Police raid terrorists hideout in Bangladesh
  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

मदर मिल्क को लेकर अमेरिका पर भड़का यूनिसेफ

UNICEF Decries Sale Of Breast Milk To US Mothers
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

उत्तर कोरिया का मिसाइल परीक्षण फेल, दक्षिण कोरिया का दावा

sources says North Korea fails in new missile test
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

अब उत्तरी कोरिया ने रॉकेट इंजन का किया टेस्ट, तानाशाह ने दी बधाई

North Korea Tested A New High Performance Rocket Engine
  • रविवार, 19 मार्च 2017
  • +

28 को नेपाल जाएंगे सेना प्रमुख बिपिन रावत

Army chief General Bipin Rawat to visit Nepal for defence cooperation
  • रविवार, 19 मार्च 2017
  • +

दुबई में वैश्वीकरण पर भारत-यूएई का दूसरा सम्मेलन सोमवार को

Second India-UAE conference on globalisation to be held in Dubai
  • रविवार, 19 मार्च 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top