आपका शहर Close

साइबर हमले की चपेट में ईरान

Santosh Trivedi

Santosh Trivedi

Updated Wed, 26 Dec 2012 06:28 PM IST
iran thwarts cyber attack
ईरान पर एक बार फिर साइबर हमले का कहर बरपा है। इस बार निशाना बिजली संयत्रों और दूसरे उद्योगों को निशाना बनाया गया।
दक्षिण ईरान के होमोजगन प्रांत में ‘स्टक्सनेट’ नाम के वायरस का हमला हुआ है। हालांकि ईरान का दावा है कि इसे नियंत्रित कर लिया गया है। ईरान की मीडिया रिपोर्ट ने स्पष्ट किया है कि वायरस को फैलने पर रोक लगा पाने में वहां के तकनीकि विशेषज्ञ पूरी तरह सफल हुए हैं।

ईरान पर परमाणु हथियार बनाने का आरोप लगता रहा है और इस हमले को इसी संदर्भ में देखा जा रहा है। पश्चिमी देश ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर लगातार अंकुश लगाने की बात करते रहे हैं।

बिजली संयंत्र पर नजर
ईरान की अर्ध- सरकारी एजेंसी ‘इज्ना’ ने ईरान के प्रांतीय सुरक्षा प्रमुख अली अक़बर अखावन के हवाले से बताया है कि हाल में ईरान पर साइबर हमला तेज हुआ है।

अली अकबर ने कहा है कि ईरान के उद्योगों को साइबर हमले का लगातार निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बिजली मुहैया कराने वाली कंपनी बांदर अब्बास पर हमला हुआ लेकिन इससे पहले कि ये साइबर हमला और क्षति पहुंचा पाता इस पर काबू पा लिया गया।

ईरान लगातार इस बात का दावा करता रहा है कि उनके यहां हो रहे साइबर हमले को नियंत्रित कर पाने में सफल हुए हैं लेकिन ‘फ्लेम’ के बाद ‘स्टक्सनेट वार्म’ वायरस का ईरान में ये दूसरा हमला है। इस वायरस से यहां के उद्योगों को काफी नुकसान भी पहुंचाया है।

अप्रैल महीने में ईरान के तेल मंत्रालय और राष्ट्रीय तेल कंपनी पर हुए हमले की वजह से ईरान सरकार को प्रमुख तेल सुविधाओं को रोकना पड़ा। इनमें खार्ग द्वीप तेल टर्मिनल भी शामिल था जो तेहरान के अधिकतम निर्यात को नियंत्रित करता है।

इससे पहले ईरान ने कहा था कि उनके हां कुछ कंप्यूटरों में ‘ड्क्व स्पाईवेयर’ नाम का संक्रमण आ गया है। ईरान ने इस संग्रह के जरिए उस डेटा को चुराने का आरोप लगाया था जिससे अगले साइबर हमले को अंजाम दिया जा सके।

इन हमलों में ईरान के उर्जा निर्यात को भी प्रभावित किया गया है। खासतौर से ईरान के विवादास्पद यूरेनियम संवर्धन कार्यक्रम को जिसके बारे में पश्चिमी देशों ने हमेशा आपत्ति जताई है। लेकिन माना जा रहा है कि ईरान पर हुए अब तक के तमाम साइबर हमलों में ‘स्टक्सनेट वार्म’ सबसे बड़ा और खतरनाक साइबर हमला है।

वर्ष 2010 में ईरान ने पश्चिमी देशों पर आरोप लगाया था कि पश्चिम ‘स्टक्सनेट वार्म’ वायरस के जरिए उनके न्यूक्लियर सेवा को प्रभावित करना चाहता है। विशेषज्ञों का मानना है कि जून 2009 से अप्रैल 2010 के बीच पांच औद्योगिक संसाधन संगठनों पर कई बार वायरस से हमला हुआ है।

Comments

Browse By Tags

cyber attack virus iran

स्पॉटलाइट

दिवाली पर पटाखे छोड़ने के बाद हाथों को धोना न भूलें, हो सकते हैं गंभीर रोग

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

इस एक्ट्रेस के प्यार को ठुकरा दिया सनी देओल ने, लंदन में छुपाकर रखी पत्नी

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

...जब बर्थडे पर फटेहाल दिखे थे बॉबी देओल तो सनी ने जबरन कटवाया था केक

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

'ये हाथ नहीं हथौड़ा है': सनी देओल के दमदार डायलॉग्स, जो आज भी हैं जुबां पर

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

मां लक्ष्मी को करना है प्रसन्न तो आज रात इन 5 जगहों पर जरूर जलाएंं दीपक

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

अफगानिस्तान: आत्मघाती हमले में 80 की मौत, 300 से ज्यादा घायल

afghanistan suicide attack, 80 dead more than 300 are injured
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

डोकलाम विवाद के बाद जंग की नई जमीन, श्रीलंका में चीन को चुनौती देगा भारत

After Doklam, Sri Lankan airport is the new battlefront for India-China
  • शनिवार, 14 अक्टूबर 2017
  • +

ट्रंप ने उकसाया तो अमेरिका पर कर देंगे मिसाइलों की बौछार: उत्तर कोरिया

If Trump provoked then missiles will show up on America says north korea
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +

डोकलाम में PLA की मौजूदगी के बाद भूटान ने चीन से की बात

Bhutan talks to China on PLA activity in Doklam
  • शनिवार, 14 अक्टूबर 2017
  • +

तालिबान के चंगुल से छूटा कनाडाई बोला- हुआ बेटी का कत्ल और बीवी से रेप

Kidnapped Canadian Boyle said, My wife was raped, child killed
  • शनिवार, 14 अक्टूबर 2017
  • +

उत्तर कोरिया का परमाणु टेस्ट के बाद चार भूकंप झटके

Four earthquake shocks after North Korea's nuclear test
  • शनिवार, 14 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!