आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

मैं हिटलर का पड़ोसी था !

माइक लैंचिन

Updated Sat, 10 Nov 2012 08:59 AM IST
i was hitler neighbor
एडगार फोएथवेंगर का बचपन म्यूनिख में बीता जहाँ वे हिटलर के पड़ोसी थे। पड़ोसी के तौर पर एडगार नौ नवंबर 1938 की रात तक हिटलर के पड़ोसी थे। ये वही रात थी जब जर्मन यहूदियों के नरसंहार की शुरुआत हुई थी।आठ दशक से अधिक समय बीत चुका है, लेकिन एडगार के आंखों में एडोल्फ हिटलर की वो छवि अभी तक जीवंत हैं। ये 1930 के दशक के शुरुआती वर्षों की बात है जब एडगार की उम्र आठ बरस थी। वे अपनी आया के साथ घूमने निकले थे, तभी उन्होंने नाज़ी नेता की पहली झलक देखी थी। हिटलर की खास तरह की वेशभूषा को याद करते हुए एडगार बताते हैं, ''उन्होंने सीधे मेरी तरफ देखा, मुझे नहीं लगता कि वो मुस्कुराए थे।'' एडगार को याद है कि हिटलर जब सड़क पर निकले तो कुछ लोगों ने उनका अभिवादन किया और हिटलर ने बड़े ही खास अंदाज में अपनी टोपी सिर से उठाकर उन्हें जबाव दिया और फिर एक कार से रवाना हो गए जो उनकी राह तक रही थी।
हिटलर को देखने की उत्सुकता
तब एडगार की उम्र बहुत कम थी, तो क्या इतनी कम उम्र में भी वो हिटलर को जानते थे, इस सवाल पर वे कहते हैं, ''हां बिल्कुल, मैं जानता था कि वो कौन हैं, भले ही मैं एक छोटा बच्चा था। एक चांसलर के तौर पर उनका दबदबा था।'' वे कहते हैं, ''मुझे हिटलर से डर नहीं लगा, मैं तो बस उन्हें देखने के लिए उत्सुक था।'' एडगार की उम्र अब 88 वर्ष है। एडगार कहते हैं, ''तब मुझे हिटलर को देखना कोई बड़ी बात नहीं लगती थी लेकिन ये सोचना बड़ा कठिन है कि जिस व्यक्ति को मैं रोज़ाना देखता था, वो वही व्यक्ति है जिसने दुनिया को हिलाकर रख दिया।''

उन्हें अपने बचपन की और भी कई दिलचस्प बातें याद हैं। जैसे वो बताते हैं, ''मेरी मां कहती थीं कि आज ज्यादा दूध नहीं आया क्योंकि दूधवाला दूध की ज्यादातर बोतलें हिटलर के घर दे गया है।'' एडगार बताते हैं कि वो जब स्कूल जाते थे तो रोज ही हिटलर के घर के सामने से गुजरते थे और चाहते थे वो किसी तरह नजर आ जाएं। एक दिन तो वो हिटलर के दरवाजे तक जा पहुंचे ये देखने कि डोर-बेल के साथ हिटलर के नाम की पट्टी लगी है या नहीं। वो कहते हैं, ''हिटलर सप्ताहांत में म्यूनिख आते थे और घर के बाहर खड़ी गाड़ियों को देखकर पता चल जाता था कि वो घर में हैं या नहीं। ''

स्वास्तिक का निशान और दुश्मनों के नाम
एडगार अपने स्कूल के दिनों को याद करते हैं और बताते हैं कि स्कूलों में भी नाज़ी विचारधारा को आगे बढ़ाया जाता था।
वे कहते हैं, ''उन दिनों स्कूल में नाज़ी विचारधारा पढ़ाई जाती थी। उनके एक शिक्षक ऐसे भी थे जो बच्चे की कॉपियों में स्वास्तिक के निशान बनाते थे और जर्मनी के दुश्मन के नाम गिनाते थे जिनमें ब्रिटेन, रूस और अमरीका भी शामिल थे।''

एडगार कहते हैं, ''हम जानते थे कि हिटलर का सत्ता में आना हम यहूदियों के लिए खतरे की बात है।'' एडगार के पिता के बड़े भाई लियॉन एडगार एक जानेमाने नाज़ी विरोधी नाटक-लेखक थे। उनके घर में नाज़ियों ने तोड़फोड़ भी की थी और फिर उन्होंने वर्ष 1933 में जर्मनी ऐसे छोड़ा कि कभी लौटकर नहीं आए।

ये 10 नवंबर 1938 की बात है। तब एडगार की उम्र 14 वर्ष थी जब पूरे जर्मनी में यहूदियों को नाज़ी सुनियोजित तरीके से निशाना बनाने लगे थे। एडगार बताते हैं कि कुछ लोग उनके पिता को जबरन ले गए जो उनका और उनके परिवार का जीवन बदलने वाली घटना थी। लेकिन उनके पिता किसी तरह जीवित बच गए।

जब तक उनके पिता वापस आए, एडगार का परिवार अपनी जान बचाने की खातिर जर्मनी छोड़ने का मन बना चुका था। वर्ष 1939 तक पूरा परिवार ब्रिटेन पहुंच चुका था। द्वितीय विश्वयुद्ध खत्म होने के बाद 1950 के दशक में एडगार एक बार फिर जर्मनी गए और वहां पहुंचे जहां हिटलर रहते थे। एडगार बताते हैं कि तब वो घर अपनी जगह कायम था। लेकिन आज वहां ऐसा कुछ नहीं बचा है जो इस बात का संकेत भी दे सके कि हिटलर ने विश्व इतिहास पर कितना असर डाला है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

शराब पीकर कभी न बनवाएं टैटू, पहली बार बनवाते समय इन बातों का रखें ध्यान

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

ऋतिक हुए इस बीमारी के शिकार, इलाज के लिए पहुंचे जर्मनी

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

'बद्रीनाथ की दुल्हनिया' का 'आशिक सरंडर हुआ', नया गाना रिलीज

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

शाहरुख ने लड़कियों को दिया गोल्ड लॉकेट, आखिर क्या है राज ?

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

'बाहुबली-2' का मोशन पोस्टर रिलीज

  • शुक्रवार, 24 फरवरी 2017
  • +

Most Read

नेपाल में राजनीतिक संकट, सत्तारूढ़ गठबंधन में फूट

Nepal ruling coalition split Oli
  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

सीरिया में आत्मघाती हमले में 51 की मौत, कमांड पोस्ट के उड़े चिथड़े

51 killed in suicide attack in Syria on friday
  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

बीबीसी के पत्रकार को पांच साल की जेल

BBC journalist faces 5 years jail for Thailand reporting
  • शुक्रवार, 24 फरवरी 2017
  • +

भारत से पहला कार्गो जहाज बांग्लादेश पहुंचा

First cargo ship from India arrives at Pangaon Port in Bangladesh
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

गूगल ने डूडल बना यूं किया नए ग्रहों को सलाम

Google has dedicated a doodle to NASA’s exoplanet discovery
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

भारत विरोधी गतिविधियां संचालित करने की इजाजत नहीं देगा बांग्लादेश

Bangladesh will not allow anti-India forces to operate
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top