आपका शहर Close

खून वाली बंदूक से स्याही वाली कलम तक

बीबीसी हिन्दी

Updated Sat, 27 Oct 2012 03:44 PM IST
from gun of blood to ink pen
चार-पाँच साल पहले तक इसराइल के गिलाद शालित नामक युवक अकसर सुर्खियों में रहता था, उसके बारे में टीवी चैनल और अखबार वाले ख़बरें छापते थे। आज यही युवक खेल पत्रकार बन दूसरों के बारे में ख़बरें छाप रहा है।
ये वही इसराइली सैनिक है जिसे जून 2006 में फ़लस्तीनी गुट हमास ने अगवा कर लिया था। उस समय गिलाद केवल 19 साल के थे। पिछले 26 सालों में ज़िंदा रिहा किए जाने वाले वे पहले इसराइली सैनिक हैं।

हमास ने पाँच साल तक गिलाद को बंदी बनाकर रखा था। गिलाद जब क़ैद थे तो उन्हें इसराइल समेत कई देश के लोगों की सहानुभूति मिली। लेकिन रिहाई के बाद वे सुर्खियों से गा़यब हो गए।

आजकल वे एक मशहूर इसराइली अख़बार में बतौर खेल पत्रकार काम करते हैं। वे मियामी जाकर एनबीए बास्किटबॉल फाइनल और यूक्रेन जाकर यूरोपीय फ़ुटबॉल चैंपियनशिप कवर कर चुके हैं।

रिहा होने के बाद से गिलाद लाइमलाइट से दूर ही रहे। हाल ही में अपने 26वें जन्मदिन पर उन्हें अपने जन्मदिन की पार्टी में मशहूर हस्तियों के साथ देखा गया था।

'अपहरणकर्ताओं के साथ फिल्म देखता था'
दुबले पतले से दिखने वाले गिलाद का वज़न अब थोड़ा बढ़ गया है और वे पहले से सेहतमंद दिखते हैं। अपहरण के समय गिलाद इसराइली सेना में अनिवार्य सेवा पर थे। बाद में वे कॉरपोरल से सार्जेंट-मेजर शालित बन गए थे। अप्रैल में उन्होंने सेना छोड़ दी।

गिलाद को 1027 फलस्तीनी क़ैदियों के बदले में हमास ने रिहा किया था। इसराइल लौटने के बाद उन्हें मनोवैज्ञानिक स्तर पर कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

अब तक गिलाद ने अपहरण के दौरान अपनी ज़िंदगी के बारे में बहुत कम ही बताया है। इसराइल के चैनल 10 पर अब उन पर एक नई डॉक्यूमेंट्री आ रही है।

वृत्तचित्र में उन्होंने बताया कि वे कैसे अपना समय बिताते थे, दबाव कैसे झेलते थे, कैसे अपने शहर का नक्शा बनाते रहते थे।

गिलात ने बताया, "मेरे अपहरणकर्ता मुझे अच्छे से खिलाते थे, मेरे साथ चेस खेलते थे और दुर्व्यवहार नहीं करते थे। मैं टीवी पर अरबी समाचार देख सकता था, कभी-कभी मैं उनके साथ बैठकर फिल्में और खेल प्रतियोगिताएँ भी देखता था।"

अब वे इस सब से दूर पत्रकारिता कर रहे हैं। हालांकि अतीत का साया पीछा नहीं छोड़ता। हाल ही में वे बार्सिलोना और रियाल मैड्रिड फ़ुटबॉल मैच कवर करने गए तो वहाँ फ़लस्तीनी समर्थकों ने विरोध किया।

गिलाद बताते हैं, "हमारे साथ सुरक्षा के लिए एक टीम थी क्योंकि फलस्तीनी गुट प्रदर्शन कर सकते थे। वैसे कुछ हुआ नहीं।"

गिलाद पुरानी ज़िंदगी से काफी आगे निकल आए हैं लेकिन ऐसी घटनाएँ उन्हें अपने अतीत के बारे में याद दिलाती रहती हैं।
Comments

स्पॉटलाइट

'पद्मावती' विवाद पर दीपिका का बड़ा बयान, 'कैसे मान लें हमने गलत फिल्म बनाई है'

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

'पद्मावती' विवाद: मेकर्स की इस हरकत से सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी नाराज

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

कॉमेडी किंग बन बॉलीवुड पर राज करता था, अब कर्ज में डूबे इस एक्टर को नहीं मिल रहा काम

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

हफ्ते में एक फिल्म देखने का लिया फैसला, आज हॉलीवुड में कर रहीं नाम रोशन

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

SSC में निकली वैकेंसी, यहां जानें आवेदन की पूरी प्रक्रिया

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

Most Read

इराक-ईरान बॉर्डर पर भूकंप की तबाही, 207 की मौत, 1700 घायल

Magnitude 7.2 earthquake hits Iran-Iraq border region says report
  • सोमवार, 13 नवंबर 2017
  • +

दस मिनट तक शेर के साथ खेला जिंदगी-मौत का खेल

Russian Zookeeper Speaks Out About Terrifying Moment a Siberian Tiger Mauled Her
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

नेपाल ने दिया झटका, चीन कंपनी के साथ हुए अहम समझौते को किया रद्द

 Nepal government cancles Budhi Gandaki project with china
  • सोमवार, 13 नवंबर 2017
  • +

तख्तापलट के बाद पहली बार सार्वजनिक मंच पर आए जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति

Zimbabwe president Robert Mugabe first  public appearance since military takeover
  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

इराक से ISIS का सफाया, रावा को कब्जे से छुड़ाया: सेना

Iraqi forces said they retook Rawa last town held by ISIS in country
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

फिलीपींस में PM मोदी बोले- हमने भ्रष्टाचार रोका, जिनकी दलाली बंद हुई वो हुए मुझसे खफा

ASEAN Summit PM Modi US President Donald Trump bilateral talks Manila Philippines
  • सोमवार, 13 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!