आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

लड़ाकू निंजा खात्मे की कगार पर

Ashok Kumar

Ashok Kumar

Updated Sat, 01 Dec 2012 02:57 PM IST
combat ninja on verge of extinction
ख़ास तरह के हथियार और उतना ही ख़ास परिधान, घातक मुद्रा और गज़ब की फुर्ती- ये पहचान है जापान के परम्परागत लड़ाकू योद्धा निंजा की जो पलक झपकते ही दुश्मन को धूल चटा सकते हैं।
लेकिन हर कला को कद्रदानों की ज़रूरत होती है और ऐसी कला जो पिता से पुत्र को विरासत में मिलती रही हो, परिवेश और प्रोत्साहन के अभाव में दम तोड़ने में देर नहीं लगाती है।

शायद यही वजह है कि जापान में ये युद्धकला अब दम तोड़ रही है जहां बहुत ढूंढने पर भी एक-दो से ज्यादा निंजा नहीं मिलेंगे और जो खुद कहते हैं कि वे आखिरी निंजा होंगे।

निंजा के बारे में रोचक मिथकों की कमी नहीं है, शायद यही वजह है कि फिल्मकार और उपन्यासकार रूपहले पर्दे और कागज़ों पर कल्पना के बूते ऐसे किरदार गढ़ते रहे हैं जिनका तानाबाना निंजा के इर्दगिर्द बुना होता था।

हॉलीवुड की फिल्मों में निंजा को ऐसे सुपर-हीरो की तरह दर्शाया जाता रहा है जो पानी पर सरपट दौड़ लगाता है और पलक झपकते ही गायब हो जाता है।

खानदानी निंजा

निंजा म्यूज़ियम के मुताबिक, जिनिची कावाकामी, जापान के आखिरी निंजा ग्रैंडमास्टर हैं।

माना जाता है कि कुछ निंजा अब खेती-किसानी में जुटे हैं और कुछ जासूसी वगैरह का काम करने लगे हैं।

खुद कावाकामी एक दक्ष इंजीनियर हैं जिन्होंने इंजीनियरिंग बाकायदा सीखी है।

वो अब ऐसे सूट-बूट पहनते हैं कि किसी जापानी कारोबारी की तरह नज़र आते हैं।

लेकिन जापान का आखिरी निंजा होने का गौरव सिर्फ कावाकामी को हासिल नहीं होगा।

क्योंकि 80 साल के मसाकी हत्सूमी का दावा है कि उनका ताल्लुक भी एक निंजा खानदान से है।

न जरूरत न अहमियत

कावाकामी और हत्सूमी दोनों ही दावा करते हैं कि उनकी वंश की जड़ें प्राचीन निंजा लड़ाकू योद्धाओं से जुड़ी हैं।

लेकिन दोनों ही कहते हैं कि वे अपने परिवार से किसी को अगला निंजा ग्रैंडमास्टर नहीं बनाएंगे। यानी वाकई ये युद्ध-कौशल अपनी आखिरी सांसे गिन रहा है।

आखिर क्या वजह है कि खुद इस कला में प्रवीण होने के बावजूद कावाकामी अपने परिवार से किसी को अगला ग्रैंडमास्टर नहीं बनाना चाहते हैं।

वो बताते हैं, ''गृहयुद्ध या ईडो काल में जासूसी, लड़ाई, खतरनाक और कारगर दवाएं तैयार करने की निंजा की काबिलियत बड़ी उपयोगी थी। लेकिन आधुनिक युग में अब हमारे पास बंदूकें हैं, इंटरनेट है और बेहतर दवाएं हैं। इसलिए अब इस कौशल की कोई जरूरत नहीं है। ''

यही वजह है कि अब वो किसी को ये कला सिखाते नहीं है, बस इसके अतीत के बारे में यूनिवर्सिटी में पार्ट-टाइम पढ़ाते हैं।

वैसे तो उनके कई शिष्य हैं, लेकिन उन्होंने किसी को अपना वारिस नहीं चुनने का फैसला किया है। लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि निंजा भले ही खत्म हो जाएं, उनसे जुड़े मिथक जारी रहेंगे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

इस हीरोइन के साथ सेट पर हुआ भयंकर हादसा, बाल-बाल बची

  • गुरुवार, 27 अप्रैल 2017
  • +

'राब्ता' गाने का टीजर रिलीज, कृति पर भारी पड़ीं दीपिका

  • गुरुवार, 27 अप्रैल 2017
  • +

Nokia 3310 की कीमत का हुआ खुलासा, 17 मई से शुरू होगी डिलीवरी

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

फॉक्सवैगन पोलो जीटी का लिमिटेड स्पोर्ट वर्जन हुआ लॉन्च

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

सलमान की इस हीरोइन ने शेयर की ऐसी फोटो, पार हुईं सारी हदें

  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

Most Read

नार्थ कोरिया की चेतावनी- 3 बमों से पूरी दुनिया कर देंगे तबाह

North Korea's says Our H-Bomb is READY world-ending bomb aimed at US
  • सोमवार, 24 अप्रैल 2017
  • +

उत्तर कोरिया ने दिखाई ताकत, अमेरिका ने दक्षिण कोरिया भेजी पनडुब्बी

US submarine arrives in South Korea
  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

अमेरिकी युद्धपोत को डुबो देगी हमारी सेना: उ. कोरिया

North Korea said it was ready to sink a US aircraft carrier to demonstrate its military might
  • रविवार, 23 अप्रैल 2017
  • +

अमेरिका, आस्ट्रेलिया की राह चला सऊदी, यहां भी बाहरियों की नो एंट्री

Saudi Arabia prevent foreigners from taking jobs in his country to help citizens
  • शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017
  • +

फिलीपींस राष्ट्रपति : मैं आतंकियों से 50 गुना क्रूर हूं, दिमाग खराब हुआ तो खा भी जाऊंगा

Philippines President: I am cruel 50 times more than terrorists, I will eat if the brain is bad
  • सोमवार, 24 अप्रैल 2017
  • +

अफगानिस्तान में सेना के बेस कैंप पर तालिबानी हमला, 140 सैनिकों की मौत

more than 50 afghan soldiers killed in talibani attack on army base us military
  • शनिवार, 22 अप्रैल 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top