आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

हज यात्रा से पनपा है आकर्षक कारोबार भी

बीबीसी हिन्दी

Updated Sat, 27 Oct 2012 03:37 PM IST
 business grooms with haj piligrimage
हज के लिए दुनिया के लाखों मुसलमान मक्का पहुँचे हैं पर लाखों के अरमान दिल में ही मचलते रह गए, बहुत सारे ऐसे भी हैं जो हज पर जाना तो चाहते हैं लेकिन उनकी जेब इजाजत नहीं देती।
साल भर में एक बार होने वाली हज यात्रा अब एक आकर्षक व्यवसाय बन गई है जो तेल समृद्ध देशों की अर्थव्यवस्था के लिए काफी मुनाफ़े का सौदा है।

हज के पारंपरिक सफेद लिबास में ट्यूनीशिया के 53 वर्षीय मोहम्मद ज़्यान ने सारा जीवन इस हज यात्रा का इंतज़ार किया तब जाकर कहीं वो इस धार्मिक दायित्व को निभाने के लायक हुए।

ज़्यान कहते हैं, "मैंने हज पर तीन लाख रुपए खर्च किए, लेकिन मुझे दुख है कि मैं अपनी पत्नी और बेटे को अपने साथ नहीं ले जा सका।" हर साल लाखों हज यात्री मक्का आते हैं और सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था को अरबों डालर दे जाते हैं।

जहां मोबाइल कंपनियां, रेस्तरां, होटल, ट्रैवेल एजेंट और एयरलाइंस करोड़ों का मुनाफा हासिल करती हैं वहीं सरकार को टैक्स के रूप में मोटी रक़म मिल जाती है। मक्का के 'चैंबर ऑफ कॉमर्स' के मुताबिक पिछले वर्ष 10 दिनों की हज यात्रा में 10 अरब डॉलर की कमाई हुई।

सार्थक निवेश
हर साल लाखों मुसलमान हज यात्रा को जाते हैं। निजी क्षेत्र को हज के दौरान भारी मुनाफा होता है जो वह ज़मीन और मकानों में निवेश करके हासिल करता है।

इस्लाम की जन्म स्थली मक्का में किराया सऊदी के किसी भी दूसरे इलाके से महंगा होता है। मस्जिद से सटे होटलों के किराए तो आसमान छूते हैं। यहां एक रात के 700 डॉलर तक देने होते हैं।

मक्का के रियल स्टेट टाइकून मोहम्मद सईद अल जहनी कहते हैं कि उन्होंने मक्का में पहली बार एक मीटर ज़मीन 15 रियाल में बेची थी जिसकी कीमत अब 80 हजार रियाल हो गई है।

मुहम्मद जहनी कहते हैं, ”मांग के मुकाबले आपूर्ति कम है। तीर्थयात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पिछले वर्षों में काफी होटल और इमारतें बनाई गई हैं।”

मक्का में कई पारंपरिक धरोहरों की जगह जगमगाते गगन चुंबी होटल बनाए जा रहे हैं जो इतने महंगे हैं कि यहां रहना सभी यात्रियों के लिए संभव भी नहीं है।

मक्का
मक्का की यादगार तस्वीरों को बेचने का भी यहां एक लंबा-चौड़ा व्यवसाय है जिसकी सीधी कमाई का ठीक-ठीक अनुमान तो नहीं लगाया जा सकता लेकिन इसमें भी हर साल अरबों की कमाई होती है।

कुछ हज यात्री ऐसे भी हैं जिन्हें मक्का में धन खर्च करना धार्मिक काम लगता है। ऐसे ही एक हज यात्री हैं अब्दुर्रहमान जिनका कहना है, “मुझे नहीं लगता है कि यहां के दुकानदार मतलब परस्त हैं, इस बहाने हम अपने मुसलमान भाइयों की मदद करते हैं जो कि बड़े पुण्य का काम है।”

वैसे, सच भी यही है कि चाहे यहाँ आना कितना भी महंगा क्यों ना पड़ता हो यात्री तो फिर भी आते ही हैं। इसलिए भी क्योंकि हज कहीं और तो हो नहीं सकता।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

बालों की चिपचिपाहट को पल भर में दूर करेगा बेबी पाउडर का ये खास तरीका

  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

पकाने की बजाय कच्चे फल-सब्जियों को खाने से होते हैं ये बड़े फायदे

  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

'एनर्जी ड्रिंक' पीने वालों के लिए बड़ी खबर, हो रहा है शराब से भी ज्यादा नुकसान

  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

अरे बाप रे! डेढ़ साल के बच्चे के काटने से मर गया जहरीला सांप

  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

क्या आपको आती है बार-बार जम्हाई, नींद नहीं कुछ और है इसका कारण

  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

Most Read

ट्रंप के प्रतिबंधों को ईरान का जवाब- अमेरिका को देंगे मौत

Iran Lawmakers demand to raised Military expenditure against America
  • सोमवार, 14 अगस्त 2017
  • +

चीन देगा बाढ़ प्रभावित नेपाल को 10 लाख डॉलर की सहायता

China will provide 1 Million Dollars aid to flood affected Nepal
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017
  • +

अफ्रीकी देश सिएरा लियोन में भूस्खलन से 300 लोगों की मौत, 600 लापता

in Sierra Leone mudslides more than 300 dead, 600 missing
  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

NRI महिला की दर्दनाक आपबीती, बोली- मेरा बॉस रेप करने के लिए मेरे पीछे ऑस्ट्रेलिया तक पहुंचा

NRI woman has accused her boss for followed me to Australia and try to rape me
  • गुरुवार, 10 अगस्त 2017
  • +

दक्षिण कोरिया: बसों में लगी सेक्स गुलाम की प्रतीक ‘कम्फर्ट वूमन’ की मूर्ति

buses carry statue of comfert woman in south korea
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017
  • +

इंडिया@70 में बोलीं सुषमा स्वराज- बुलेट से नहीं, बैलेट से बदलती है भारत देश की सत्ता

Sushma swaraj speaks in India@70, says-India never seen power transfer by bullets
  • शुक्रवार, 11 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!