आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

वो ख़्वाबों के दिन, वो किताबों के दिन

राजेश जोशी/बीबीसी संवाददाता

Updated Sat, 17 Nov 2012 10:57 AM IST
 aung san suu kyi recalls her old days
लाल साड़ी में लिपटी मिसेज़ कुसुम मेहरा ने आंग सान सू ची के दोनों हाथों को अपने हाथों से पकड़ कर पुराने दिन याद दिलाए। सू ची ने पहले कुछ याद करने की कोशिश की और अचानक उनका चेहरा आश्चर्य के भावों से भर गया। उन्होंने बांहें फैला कर मिसेज़ मेहरा को पूरी ताकत से भींच लिया।
दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज में मिसेज़ मेहरा अकेली महिला नहीं थीं जिन्होंने बर्मा में विपक्ष की नेता और जनतांत्रिक आंदोलन की प्रतीक बन चुकी सू ची को गले लगाया। वो 1964 में इसी कॉलेज में पढ़ी थीं और आज इतने सालों बाद उनकी पुरानी दोस्तों और टीचरों में से जिसने भी सुना कि वो अपने कॉलेज लौट रही हैं, वो सभी कॉलेज में खिंची चली आईं। मैंने सू ची से पूछ ही लिया कि पुरानी दोस्तों से मिलना कैसा रहा? मैंने अँग्रेज़ी में ओल्ड गर्ल्स शब्द का इस्तेमाल किया जिसपर सू ची सहित सभी ने ठहाके लगाए।

वो पल
अब सू ची मुझसे मुखातिब थीं। एक महिला जिसे बर्मा की फौजी सरकार ने पूरे 17 वर्षों तक उनके घर पर नज़रबंद रखा क्योंकि वो जनतंत्र की मांग कर रही थीं – अब मेरे सामने खड़ी थी। परंपरागत बर्मी ड्रेस, जूड़े में फूलों का गुच्छा, बालों में खिज़ाब लगा हुआ लेकिन सफेदी को छिपाने की कोशिश नहीं की गई थी। गले में गुलाबी-सफ़ेद रंग का रेशमी दुपट्टा।

लेडी श्रीराम कॉलेज के पीछे घास के मैदान में सू ची ने एक पौधा रोपा जो आने वाली पीढ़ियों को याद दिलाता रहेगा कि जनतंत्र की लड़ाई लड़ने वाली ये महिला 16 नवंबर 2012 को कॉलेज में आई थीं। इस दिन को यादगार बनाने के लिए उनके बचपन की कई सहेलियाँ, साथ पढ़ने वाली छात्राएँ और यहाँ तक कि उनकी प्रोफ़ेसर भी पहुँची थीं। सभी उन्हें अपने दिन याद दिलाना चाहते थे, उन्हें छूना चाहते थे और सू ची सबको पहचान पहचान कर हठात गले लग जातीं या फिर उनको चूम लेतीं।

"मेरी लड़कियां"

सू-ची ने कॉलेज की छात्राओं को बार बार “मेरी लड़कियां” कह कर संबोधित किया और कॉलेज प्रिंसिपल को “मेरी प्रिंसिपल” कहा। इस भावनात्मक मिलन के बीच मेरे मन में बार बार एक सवाल कौंध रहा था – पूरे 17 बरस तक सू-ची को नज़रबंद रखने वाले फ़ौजी शासकों के बारे में उनके क्या विचार होंगे?

दो पल मिले और मैंने उनसे सवाल पूछ ही लिया। ऑग सान सू ची पल भर के लिए ठहरीं और फिर जवाब दिया – “इस बारे में मैं बहुत कुछ कह चुकी हूं, पर अब मैं कुछ सकारात्मक बातें भी कहना चाहती हूं।” मुझे याद आया कि बर्मा में फौज अब भी हर चीज़ पर नियंत्रण करती है और ऑग सान सू ची को लौटकर बर्मा ही पहुँचना है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

महिलाएं प्यार में देती हैं मर्दों को इस वजह से धोखा, रिसर्च में हुआ खुलासा

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

...तो इन वजहों से महिलाओं का जल्दी बढ़ता है वजन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

जब बोनी कपूर की सास ने प्रेग्नेंट श्रीदेवी के साथ की थी ये हरकत, पैरों तले खिसक गई थी जमीन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

भूलकर भी बेडरूम में न रखें ये चीज, नहीं तो बर्बाद हो जाएगी आपकी शादीशुदा जिंदगी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

‘चाय की चुस्की’ नहीं होगी बेस्वाद, ऐसे भागेगी एसिडिटी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

Most Read

आईएस के चंगुल से निकली आठ साल बच्ची ने सुनाई आपबीती, दासी बनाकर रखते थे आतंकी

The eight year old girl tell her stroy while she was in ISIS captives
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

21 साल का भारतीय, ब्रिटेन में बना सबसे कम उम्र का डॉक्टर

21 year old Indian, youngest doctor in UK
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

उरुग्वे: गांजे की कानूनी तौर पर बिक्री करने वाला दुनिया का पहला देश

 World's first country to legally sell ganja
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

कुर्द अधिकारी का दावा, जिंदा है आईएस सरगना बगदादी

Kurdish officer's claim that Baghdadi is alive
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
  • +

जापान के स्पेस ड्रोन ने भेजी पहली तस्वीर

 Japan's Space Drone sent the first picture
  • बुधवार, 19 जुलाई 2017
  • +

पेरिस जलवायु समझौते पर ट्रंप ने बदला अपना रुख, बोले- कुछ भी हो सकता है

 Donald trump truned and said Something could happen with respect to the Paris accord
  • शुक्रवार, 14 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!